युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मकान बनवाने वालों के सामने बड़ा संकट खड़ा होने वाला है, क्योंकि प्रदेश के ईंट भट्टे एक साल के लिए बंद होने वाले हैं। ईंटों पर जीएसटी बढ़ाए जाने से यूपी ब्रिक्स एसोसिएशन नाराज है। एसोसिएशन ने कोयले की कीमतों में 200 से 300 फीसदी की बढ़ोतरी और जीएसटी बढ़ाए जाने के बाद ईंट भट्टों को बंद करने का फैसला किया है। दरअसल, उत्तर प्रदेश को प्रतिवर्ष 12 लाख टन कोयला मिलना था, लेकिन पिछले चार सालों में महज 76 हजार टन कोयला मिला है। विदेश से आने वाला कोयला काफी महंगा हो गया है। इसके साथ ही यूपी ब्रिक्स एसोसिएशन की सरकारी और अर्ध सरकारी निर्माण में लाल ईंट की आंशिक पाबंदी पर भी नाराजगी है। यही वजह है कि ब्रिक्स एसोसिएशन ने प्रदेश और देश में एक साल तक ईंट भट्टे बंद कर हड़ताल का निर्णय लिया है। उत्तर प्रदेश में अक्टूबर 2022 से सितंबर 2023 तक ईंट भट्टे बंद रखने और देश में हड़ताल करने का निर्णय लिया है।