युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। केंद्र सरकार में वाणिज्य, उद्योग रसद मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश में भाजपा की सरकार समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। 2017 के यूपी चुनाव से पहले कानून व्यवस्था क्या थीं, वह किसी से भी छिपा नहीं है। प्रदेश में अराजकता थी। व्यापारी, उद्यमी पलायन करने के लिए विवश था। 2017 के चुनाव के दौरान प्रदेश को ईमानदार सरकार दिए जाने का नतीजा ये है कि प्रदेश विकास की राह में बढ़ रहा है। काशी विश्वनाथ मंदिर का सपना पूरा किया गया। अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बन रहा है। ये भी पुराना सपना था जो कि साकार होने की दिशा में है। प्रदेश में जो विकास हो रहा है वह प्रदेश के कारोबारी, उद्यमियों के सहयोग की देन है। वे रविवार को वैश्य व्यापारी महाकुंभ में बोल रहे थे।
केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि वैश्य समाज को छोटे रूप में देखना सही नहीं है। वैश्य समाज छोटी सोच नहीं रखता है। देश में एकता और आत्मीयता को बढ़ाने में वैश्य समाज की बहुत बड़ी भूमिका रही है। सनातन धर्म में भी यही सिखाया जाता है कि समाज के हर वर्ग को साथ लेकर चलना जरूरी है।
कमला नेहरू नगर में आयोजित विराट वैश्य व्यापारी महाकुंभ को संबोधित करते हुए केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि महाराजा अग्रसेन ने 1 ईंट और एक रुपए का सिद्धांत इसलिए दिया ताकि सभी लोगों की उन्नति सुनिश्चित हो सके। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इसी सिद्धांत को अपनाकर हर व्यक्ति के जीवन में सुधार लाने का काम किया है। केंद्र और उत्तर प्रदेश में हर वर्ग की चिंता करने वाली सरकार है।
उन्होंने यूपी की योगी सरकार को ईमानदार सरकार बताते हुए कहा कि यूपी अब तेज गति से आगे बढ़ रहा है। कानून व्यवस्था में सुधार आया है पुरानी घटनाओं का जिक्र करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि सपा शासन में श्रवण साहू की हत्या और सहारनपुर में दूध कारोबारी की हत्या से वैश्य वैश्य व्यापारी बेहद डर गए थे। सपा और बसपा के शासनकाल में सभी वर्ग भयभीत रहते थे। लोगों में उत्साह नहीं होता था। अब पूरा समाज मोदी जी के साथ हैं उत्तर प्रदेश में विकास सोच वाली सरकार चल रही है। आने वाले विधानसभा चुनाव में भी यूपी में योगी सरकार भारी बहुमत से आएगी।
गोयल ने कहा कि योगी सरकार ने प्रदेश में भू माफियाओं को खत्म करने का काम किया है। डबल इंजन सरकार का असर है कि पूरे प्रदेश में विकास दिख रहा है। बाबा विश्वनाथ कॉरिडोर हो या अयोध्या में भव्य बन रहे श्रीराम मंदिर, लोगों की आकांक्षाओं को पूरा किया जा रहा है। जेवर में एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बन रहा है। इस ऑफ़ डूइंग बिजऩेस में उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर रहा। इससे पहले आयोजकों ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल का जोरदार स्वागत किया। राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल के नेतृत्व में आयोजकों ने बड़ी माला पहनाकर केंद्रीय वाणिज्य मंत्री का स्वागत किया।
अग्रोहा धाम की खुदाई में मिले तथ्यों ने नहीं दिखाया: सुभाष चंद्रा
महाकुंभ को संबोधित करते हुए ज़ी टीवी के चेयरमैन सुभाष चंद्रा ने कहा कि अग्रोहा धाम में खुदाई करते समय जो तथ्य मिले थे उनका उजागर नहीं किया गया था। 2014 में मोदी सरकार बनाने के बाद खुदाई में मिले तथ्यों का उजागर किया गया। वैश्य समाज केवल भामाशाहओं का ही समाज नहीं है बल्कि 80 से 90 प्रतिशत उपजातियां वैश्य समाज से जुड़ी हुई है। कई राज्यों में पिछड़े वर्ग के लोग भी वैश्य समाज से है इस बातों का तथ्य खुदाई में मिला है।
झारखंड भाजपा अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने कहा कि वैश्य समाज और व्यापारी को अलग-अलग करना बेहद मुश्किल काम है। 5 साल में यूपी की तस्वीर बदल गई है। व्यापारी समाज की परिभाषा को मोदी जी ने बदल दिया है। अब मूंगफली बेचने वाले भी व्यापारी श्रेणी में आते हैं स्वरोजगार को बढ़ावा दिया गया।
देश की बात आती है तो वैश्य समाज नफा नुकसान नहीं देखता: अतुल गर्ग
प्रदेश के स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग ने कहा कि भाजपा सरकार से पहले जब वैश्य समाज के लोगों की हत्या होती थी तो उन्हें तो उनके परिवार को न्याय नहीं मिलता था। उन्होंने मोहन चंद गुप्ता के उदाहरण देते हुए कहा कि उनकी पत्नी ने न्याय के लिए कई जगह दरवाजा खटखटाया लेकिन न्याय नहीं मिला। भाजपा सरकार बनते ही उनकी पत्नी को विधायक बनाया गया अतुल गर्ग ने कहा कि जब भी देश के सामने कोई भी संकट आया वैश्य समाज सबसे पहले आगे आया। जब देश की बात आती है तो वैसे समाज अपना नफा नुकसान नहीं देखता है
महाकुंभ के मुख्य आयोजक राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल ने कहा कि वैश्य समाज हमेशा से जनसंघ के साथ रहा है। अब भी मोदी जी के साथ है। भाजपा सरकार बनने के बाद पूरे देश में सुरक्षा का माहौल बना है उत्तर प्रदेश में व्यापारी खुद को सुरक्षित महसूस करने लगे हैं। समाज की आबादी 23 प्रतिशत आबादी है। ऐसे में कह सकते हैं कि आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा 23 प्रतिशत से शुरू करने जाएगी। उन्होंने कहा कि व्याप्त वैश्य समाज भगवान राम के वंशज है इनमें देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी भरी है।
जब भी देश के सामने कोई मुश्किल घड़ी आती है या आपदा आता है तो वैश्य समाज मदद के लिए आगे रहता है। इस तरह के सम्मेलनों से जागृति आएगी। उन्होंने पीयूष गोयल से अपील की है कि वह आश्वासन देकर वैश्य समाज का ध्यान भी रखा जाएगा। सरकार की झोली भरी है सरकार से भी उम्मीद है कि वह वैश्य समाज का ध्यान रखेगी।
एमएलसी दिनेश गोयल ने कहा कि वैश्य समाज को एकजुट करने का यह प्रयास काफी सफल रहा। वैश्य समाज शिक्षा, स्वास्थ्य प्रशासन हर क्षेत्र में अपनी भूमिका अदा कर रहा है। इस तरह के आयोजनों से दूसरे क्षेत्रों में भी वैश्य समाज की भागीदारी बढ़ेगी। दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री कैप्टन विकास गुप्ता ने कहा कि गाजियाबाद को वैश्य समाज का गढ़ कहा जाता है लेकिन विधानसभा और संसद में हमारी भागीदारी नहीं है। विधानसभा में 403 सीट में से सिर्फ 23 विधायक वैश्य समाज से है। लोकसभा में सिर्फ दो सांसद वैश्य समाज से है। 75 में से सिर्फ दो जिला पंचायत अध्यक्ष वैश्य समाज से है। आखिर वैश्य समाज चुनावी राजनीति में क्यों पिछड़ रहा है हमें राजनीति में दखल बढ़ाना होगा।
अग्रवाल महासंघ के के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने कहा कि इस सम्मेलन से समाज में चेतना आएगी लोग अपनी ताकत को पहचानेंगे अधिकारों की बात करेंगे किसी भी पार्टी से हो समाज के लोगों को साथ लेना और उनकी मदद करना आवश्यक है
गोपीचंद ने मंडी शुल्क का मामला उठाया
उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के महानगर अध्यक्ष गोपीचंद ने मंच से मंडी शुल्क लगाने का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू करते समय बताया गया था कि कोई और शुल्क नहीं लगाया जाएगा लेकिन पिछले दिनों मंडी शुल्क लगा दिया गया इस काले कानून को खत्म किया जाए। उत्तर प्रदेश व्यापारी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष अशोक गोयल ने कहा कि समाज को शक्ति का अहसास कराने के लिए महाकुंभ का आयोजन किया गया। वित्त और वितरण व्यवस्था में वैश्य समाज रीड की हड्डी का काम करता है।
वेद प्रकाश खादीवाले ने कहा कि उत्तर प्रदेश में वैश्य समाज की आबादी 23 प्रतिशत है लेकिन राजनीतिक भागीदारी नहीं के बराबर हैै। उद्योगपति आनंद प्रकाश ने कहा कि 6 महीने में इस तरह का आयोजन एक बार अवश्य होना चाहिए। लोहा विक्रेता मंडल के अध्यक्ष अतुल जैन ने कहा कि इससे पहले भी एकता बनाने का प्रयास किया गया लेकिन वह सफल नहीं हो पाया। इस सम्मेलन से वैश्य समाज के बीच एकता होगी। बॉक्स महाकुंभ के दौरान सपना बंसल ने मंच से ही खुद को दावेदार घोषित किया उन्होंने कहा कि वैसे समाज के सम्मान के लिए दावेदारी ठोक दी है। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज के मान सम्मान के लिए उन्होंने साहिबाबाद सीट से दावेदारी की है। सपना बंसल के इस बयान से वहां मौजूद कई नेता नाराज हो गए। उन्होंने कहा कि यह मंच चुनावी दावेदारी की घोषणा करने की नहीं थी।
संचालन मनमोहन मित्तल और देवेंद्र हितकारी और अनिल अग्रवाल सांवरिया ने किया।