देवदत्त शर्मा
नोएडा (युगकरवट)। उत्तर प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम ने आयोग की सदस्य मीना कुमारी द्वारा लड़कियों को लेकर दिए गए विवादित बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि इस मामले में आयोग की सदस्य मीना कुमारी से स्पष्टीकरण मांगा गया है। इसके लिए उन्हें जल्द ही नोटिस जारी किया जाएगा।
महिला आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम ने शुक्रवार को हमारे संवाददाता से हुई बातचीत के दौरान कहा कि महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी द्वारा दिया गया बयान तरह गलत तथा अशोभनीय है। महिलाओं तथा युवतियों को लेकर उन्हें इस तरह के बयान देने से बचना चाहिए। उनके द्वारा दिए गए बयान में शब्दों का चयन कतई ठीक नहीं था। उन्होंने कहा कि आज हम लोग 21वीं सदी में जी रहे हैं और मोबाइल दैनिक दिनचर्या में जरूरत का अहम हिस्सा बन चुका है, ऐसे में आयोग की सदस्य द्वारा लड़कियों को मोबाइल ना देने तथा लड़कों के साथ उनके भाग जाने का दिया गया बयान किसी भी नजर से सही नहीं है। आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम ने बताया कि इस संबंध में सदस्य मीना कुमारी से फोन पर वार्ता कर स्पष्टीकरण लिया गया है, जल्द ही उनसे इस विवादित बयान पर लिखित में भी स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। उन्होंने बताया कि स्पष्टीकरण के लिए जल्द ही उन्हें नोटिस जारी किया जाएगा। बता दें कि उत्तर प्रदेश महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने एक विवादित बयान देते हुए कहा था, कि अभिभावक छोटी उम्र की लड़कियों को मोबाइल फोन ना दें। लड़कियां मोबाइल पर घंटों- घंटों बातचीत करती हैं, और बाद मे लड़के के साथ घर से भाग जाती हैं। उन्होंने कहा था कि महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध का एक कारण मोबाइल फोन भी है, ऐसे में अभिभावकों को अपनी लड़कियों को मोबाइल नहीं देना चाहिए। हालांकि उनके इस बयान पर जब विवाद खड़ा हुआ तो मीना कुमारी ने भी अपनी सफाई देते हुए कहा कि उनका कहना था कि अभिभावकों को अपने लड़कियों के मोबाइल फोन को समय-समय पर चेक करते रहना चाहिए। साथ ही इस बात पर भी नजर रखनी चाहिए कि वह किसके साथ बात कर रही हैं, और किसके साथ जा रही हैं। महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी के इस बयान की सोशल मीडिया पर जबरदस्त आलोचना हो रही है। कुछ लोग यह कह रहे हैं कि मीना कुमारी को एक महिला होने के बावजूद भी, इस तरह का दिए गए बयान के चलते अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। महिलाओं के हित के लिए काम करने वाले कई सामाजिक संगठन मीना कुमारी के विरोध में खड़े हो गए हैं।