विधानसभा के दोनों सदनों को किया संबोधित, महिलाओं की कम संख्या पर जताई चिंता
युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आजादी के अमृत महोत्सव पर यूपी विधानमंडल के दोनों सदनों को संबोधित किया। इस अवसर पर उन्होंने सदन के सभी सदस्यों को चुने जाने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह बेहद महत्वपूर्ण है कि लोकसभा के सर्वाधिक सदस्य यूपी से ही चुने जाते हैं। देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश से ही चुनकर बने हैं।
उन्होंने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मायावती व मुलायम सिंह यादव के योगदान को भी याद किया और कहा कि प्रदेश के विकास में उनका भी उल्लेखनीय योगदान है। राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे बताया गया कि यूपी विधानसभा में महिला सदस्यों की 47 है जो कि कुल सदस्यों 403 का 12 प्रतिशत है। वहीं, विधान परिषद में कुल 100 सदस्यों में महिलाओं की संख्या सिर्फ पांच है। जिसे और बढ़ाए जाने की जरूरत है। इस मौके पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, विधान परिषद सभापति कुंवर मानवेंद्र सिंह, विधान सभा अध्यक्ष सतीश महाना, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, परिषद के नेता प्रतिपक्ष लाल बिहारी यादव, विधान सभा के नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव समेत सभी सदस्य शामिल हुए।
विधानमंडल के संयुक्त सदन को संबोधित करते हुए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने कहा कि यूपी विधानमंडल ने देश को कई महान विभूतियां दी हैं। देश के वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश से बड़े पदों पर पहुंचे हैं। हमें अपने गणतंत्र पर गर्व है। राष्ट्रपति का संबोधन विधानमंडल के सभी सदस्यों के लिए मार्गदर्शक साबित होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषण में राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए यूपी विधानमंडल के दोनों सदनों को संबोधित करने का आग्रह स्वीकार करने के लिए आभार जताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक साधारण से परिवार में जन्म लेने के बाद देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचना यह भारत के लोकतंत्र के लिए गर्व की बात है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यकाल के आठ वर्ष पूरे किए। इस अवसर पर उन्होंने देश को पांच मंत्र दिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आजादी की अमृत महोत्सव का अर्थ आजादी की ऊर्जा का महोत्सव, स्वाधीनता सेनानियों से प्रेरणा का महोत्सव, नये विचारों का महोत्सव,नये संकल्पों का महोत्सव और आत्मनिर्भरता को प्राप्त करने का महोत्सव। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पहले नेता प्रतिपक्ष व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सदन को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति का स्वागत किया और उनका आभार जताया। उन्होंने कहा कि हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं पर यह भी सच है कि बिना भेदभाव खत्म हुए बिना किसी भी आजादी का कोई मतलब नहीं है। भले ही कोई कितने बड़े पद पर पहुंच गया हो पर ऐसा नहीं हो सकता है कि उसने भेदभाव का सामना न किया हो।