प्रमुुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। निगम का एक और मामला सामने आया। निगम शहर के लोगों को डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का पिछले तीन तीन वर्ष का बिल थमा रहा है। कई मकानों पर तो हाउस टैक्स से भी ज्यादा कूड़ा कलेक्शन का बिल निगम ने भेज दिया। लोग इसको लेकर काफी परेशान है। शहर में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन के यूजर चार्ज को लेकर निगम ने पहले से ही पॉलिसी बनाई हुई है। इसी पॉलिसी के तहत नगर निगम डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन की एवज में यूजर चार्ज वसूला है। यह यूजर चार्ज 40 रूपये से लेकर दस हजार रुपये प्रति महीने तक का है। हालांकि नगर निगम ने गत कार्यकारिणी की बैठक में यूजर चार्ज घटाने का एक प्रस्ताव पेश किया था। जिसमें बताया गया कि पहले से ही तय न्यूनतम 40 रुपये और अधिकतम 15 हजार रूपये के बजाय अधिकतम यूजर चार्ज केवल 1500 रुपये महीने के हिसाब से तय किया जाए। कार्यकारिणी की और से यह प्रस्ताव पास हो चुका है। माना जा रहा है कि जल्दी ही बोर्ड की होने वाली बैठक में इस प्रस्ताव को पेश किया जाएगा। मगर इससे पहले ही नगर निगम अब लोगों को पिछले तीन तीन वर्ष के बकाया यूजर चार्ज के बिल भेज रहा है। इससे लोग काफी परेशान है।