नोएडा (युग करवट)। एमिटी विश्वविद्यालय द्वारा नैनोटेक्नोलॉजी और नैनोसांइस के क्षेत्र में किये जा रहे शोध से प्रभावित होकर यूएसए के द सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयार्क के सीयूएनवाई ग्रैजुएट सेंटर के नैनोसांइस के फैकल्टी डा विरिंदर एस परमार ने इंस्टीटयूट ऑफ क्रेमेस्ट्री फॉर लाइफ एंड हैल्थ संाइसेस, पीएसएल विश्वविद्यालय चिमी पेरिसटेक के डा क्रिस्टोफ लेन के साथ एमिटी विश्वविद्यालय का दौरा कर रहे है। इस अवसर पर आज एमिटी सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम के अंर्तगत यूएसए के द सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयार्क के सीयूएनवाई ग्रैजुएट सेंटर के नैनोसांइस के फैकल्टी डा विरिंदर एस परमार को एमिटी सांइस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती द्वारा एमिटी विश्वविद्यालय की मानद प्रोफेसरशिप की उपाधि से सम्मानित किया गया। इस यात्रा के दौरान प्रो- परमार विभिन्न विषयों जैसे ग्रीनर स्ट्रैटजीज इन सिंथेसिस इन बायोलॉजिकली एंड डंडस्ट्री यूजफुल कंपाउड, नैचुरल प्रोडक्ट इंस्पायरड डिस्कवरी एंड डेवलपमेंट ऑफ नोवेल एंटी इन्फलेमेट्ररी, सिंथेसिस ऑफ नोवेल पॉलीमेरिक नैनोमैटेरियल यूजफूल एज ड्रग डिलवरी एजेंट आदि पर विचार रखेगें।