विपिन चौधरी
गाजियाबाद (युग करवट)। अगर अपराध रोकना है तो बदमाशा के गिरोहों की कमर तोडऩी होगी। यह बात डीसीपी ग्रामीण जोन रवि कुमार ने युग करवट से खास मुलाकात में कही। उन्होनें कहा कि महिलाओं व बच्चों के साथ अपराध करने वाले किसी आदमी को बख्शा नहीं जाएगा। श्री कुमार ने कहा कि अपराध पर अंकुश लगानेे के लिये उन्होंने एक खास योजना तैयार करके उस पर अमल भी करना शुरू कर दिया है। इसके तहत वह जहां अपने जोन के समस्त थानों के हिस्ट्रीशीटरों, गैंगस्टर, गुंड़ा-मवालियों के अलावा चोर-उचक्कों की कुंडलियां खंगलवा रहे हैंंं, साथ ही जेल में बंद कुख्यात बदमाशों की गतिविधियों पर भी पैनी नजर गढ़ाये हुए हैं। इसके अलावा वो पुलिस की छवि को भी और अधिक स्वच्छ बनाने के लिये सर्किलोंं व थाना-चौकियों से लेकर बीट आरक्षियों की भी मॉनेटरिंग कर रहे हैं। श्री कुमार ने बताया कि गाजियाबाद कमिश्नरेट में उनकी तैनाती के कुछ दिन के अंदर ही जहां दर्जनों शातिर अपराधियों के खिलाफ गुंड़ा व गैंगस्टर एक्ट व जिला बदर करने जैसी कार्रवाई करवाने के साथ-साथ अनेक बदमाशों की हिस्ट्रीशीट भी खोली गई है वहीं पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को और अधिक एक्टिव एवं क्रियेटिव करने के लिये वह अब तक आधा दर्जन से अधिक थाना चौकियों का औचक निरीक्षण कर चुके हैं। इसके अलावा कानून व्यवस्था को मजबूत, बदमाशों में पुलिस का खौफ और आमजन में संपूर्ण सुरक्षा का भाव जागृत करने के लिये रोजाना नियमित रूप से थानावार पैदल गश्त भी कर रहे हैं। श्री कुमार ने कहा कि उनकी तैनाती के कुछ दिनों में ही जहां एक दर्जन से अधिक इनामी बदमाश जेल भेज जा चुके हैं वहीं कई संगीन व सनसनीखेज वारदातों के खुलासे भी हो चुके हैं। श्री कुमार ने कहा कि उनका फोकस बदमाशों और उनके गिरोहों के नेटवर्क को ध्वस्त करके अपराधियों व उनके गैंग को नेस्तनाबूद करने पर है। श्री कुमार ने यह भी कहा कि उनके साथ वो ही अधिकारी व पुलिसकर्मी टिक पायेगा जो पूरी निष्ठा, लग्न व परिश्रम के साथ अपने कर्तव्यों का र्निवहन करेगा। श्री कुमार ने कहा कि भ्रष्टï एवं निकृष्टï अधिकारियों व पुलिसकर्मियों के साथ सख्ती से निपटा जायेगा। बता दें कि २०१५ बैच के आईपीएस अधिकारी की गिनती तेज तर्रार, कर्तव्यनिष्टï एवं इमानदार अधिकारियों में होती है। वह अब तक गाजियाबाद, जालौन सहित कई जनपदों एवं पुलिस की विभिन्न इकाईयों में कई महत्वपूर्ण पदों पर आसीन रहकर अपनी कार्यशैली का लोहा मनवा चुके हैं।