विपिन चौधरी
गाजियाबाद (युग करवट)। श्रावण मास के दौरान लगभग दस दिनों तक चलने वाली कांवड़ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था को संपूर्ण रूप से पुख्ता बनाने के लिये इस बार कप्तान मुनिराज ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था एवं उनकी सुविधाओं को लेकर पूछे गये सवालों के जवाब में युग करवट दैनिक समाचार पत्र से खास मुलाकात करते हुए एसएसपी मुनिराज ने बताया कि इस बार कावंडिय़ों को प्रदान की जाने वाली सुरक्षा व्यवस्था इतनी अभेद्य एवं पुख्ता की गई है कि किसी इंसान की बात तो छोडिय़े परिंदा भी इस सुरक्षा व्यवस्था को भेद नहीं सकता है। कप्तान ने बताया कि इस बार कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था को पूरी तरह से फुल प्रूफ बनाने के लिए पुलिस प्रशासन ने मैनी लेयर्स वाला सेफ्टी सिस्टम बनाया है। इसके अलावा पुलिस द्वारा इस बार कावंडिय़ों के लिये सेवा शिविर लगाने वाले संचालकों व उनके वॉलिंटियर्स का भी सत्यापन करवाया जा रहा है। साथ ही कांवडिय़ों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसके भी पुख्ता इंतजाम किये गये हैं।
सेफ्टी सिस्टम को ४ सुपर व ९ जोन में बांटा गया
एसएसपी मुनिराज ने बताया कि कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था में कोई चूक ना रहे जाये, इसको दृष्टिïगत रखते हुए इस बार कांवड़ यात्रा के सेफ्टी सिस्टम को ४ सुपर जोन व नौ जोन में बांटा गया है। सुपर जोन का नोडल अधिकारी जहां एएसपी स्तर के अधिकारियों को बनाया गया है, वहीं नौ जोन की सुरक्षा व्यवस्था सीओ स्तर के अधिकारियों को सौंपी गई है। इसके अलावा दुधेश्वरनाथ मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था के लिये भी एक जोन बनाया गया है। इस जोन की नोडल अधिकारी एसपी क्राइम दीक्षा शर्मा को बनाया गया है।
कावंडिय़ों की सुरक्षा में लगे ४५०० जवान
कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था में कोई सेंध ना लगा पाये, इसके मदï्देनजर जनपद की सीमा क्षेत्र में ४५०० जवानों व पुलिस अधिकारी दिन रात सभी कावंड़ मार्गों पर पैनी नजर रख रहे हैं। इसके अलावा चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस के जवान ऐसे व्यक्तियों व वाहनों को भी चेक करने से नहीं चूक रहे हैं, जो संदिग्ध दिखाई दे रहे हैं।
सुरक्षा व्यवस्था की चेकिंग का जिम्मा ५ एसपी के कंधों पर
कांवडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था में कोई चूक ना रहे और पुलिसकर्मी अपनी डï्यूटी का पालन मुस्तैदी व निष्ठा के साथ करें, इसका सत्यापन करने के लिये एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल, एसपी सिटी द्वितीय ज्ञानेंद्र सिंह, एसपी सिटी तृतीय सुभाषचंद्र गंगवार व एसपी क्राइम दीक्षा शर्मा को महानगरीय क्षेत्र में लगाया गया है। वहीं, देहात क्षेत्र की सुरक्षा व्यवस्था को चेक करने की जिम्मेदारी एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा व एएसपी आकाश पटेल को सौंपी गई है।
ट्रैफिक सिस्टम का जिम्मा पुलिस अधीक्षक यातायात व सीओ के जिम्मे
कांवड़ यात्रा के दौरान भोलों की सुविधा के लिये रूट डायवर्जन से लेकर पूरे जनपद के ट्रैफिक सिस्टम को स्मूद रखने की जिम्मेदारी एसपी ट्रैफिक रामानन्द कुशवाहा व सीओ ट्रैफिक के अलावा उनके अधिनस्थों को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि इस बार आमजनों को भी किसी प्रकार की यातायात संबंधी परेशानी ना हो इस बात को दृष्टिïगत रखते हुए कई वैकल्पिक मार्गों से भी ट्रैफिक को संचालित किया गया है। किसी अप्रिय घटना से बचने के लिये सभी कांवड़ मार्गों पर भारी व हल्के वाहनों का संचालन २७ जुलाई की सुबह ८ बजे तक पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। केवल ऐसे वाहनों को ही पुलिस के द्वारा पास जारी किये गये हैं, जिनका संचालन आपात एवं अनिवार्य सेवाओं के अलावा जीवनरक्षक प्रणाली के तहत होता है।
कांवड़ मार्गों को करवाया गया प्रकाश से जगमग
रात के समय कावंड़ लेकर अपने-अपने गंतव्यों की ओर जाने वाले भोलों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो, इसके मदï्देनजर पुलिस प्रशासन ने अन्य विभागों के सहयोग से कांवड़ मार्गों को प्रकाश से जगमग करवा दिया है। वहीं, पुलिस के अधिकारी कांवड़ मार्ग की नियमित साफ-सफाई करवाने के साथ-साथ कावंडिय़ों का हाल-चाल जानकर उनका मनोबल भी बढ़ा रहे हैं।
तीसरी आंख के सहित कई माध्यमों से रखी जा रही है नजर
कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यवस्था के तहत कावंड़ मार्गों पर तीसरी आंख यानि सीसीटीवी व ड्रोन के अलावा अन्य कई माध्यमों से भी हर गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा रही है। इतना ही नहीं कावंडिय़ों की सुरक्षा व्यव्स्था के तहत पुलिस बल के अलावा बम, डॉग व साईकिल स्क्वॉड के अलावा क्यूआरटी, गारद, फायर ब्रिगेड के अलावा खुफिया इकाई व भोलों की ड्रेस में भी सैंकड़ों जवान जनपद की सीमा में निरंतर मोबाइल कर रहे हैं।
कप्तान खुद भी कर रहे हैं सेफ्टी सिस्टम की मॉनेटरिंग
कप्तान मुनिराज ने बताया कि कावंडिय़ों की सुरक्षा को फुल प्रूफ करने के लिये वह खुद भी पल-पल की जानकारी रखने के साथ-साथ कावड़ मार्गों पर पैदल व साईकिल द्वारा भ्रमण कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि एडीजी मेरठ जोन राजीव सब्बरवाल व आईजी प्रवीण कुमार सिंह से लेकर पुलिस प्रशासन व शासन स्तर के अधिकारी भी सुरक्षा व्यवस्था को नियमित रूप से चेक कर रहे हैं।
कई कंट्रोल रूम बनाकर की जा रही सुरक्षा व्यवस्था की जांच
कप्तान मुनिराज ने बताया कि कांवड़ यात्रा को पूरी तरह से सुरक्षित एवं सुविधाजनक बनाने के लिये जनपद में कई स्थानों पर कंट्रोल रूम भी बनाये गये हैं। इनमें दर्जनों पुलिसकर्मी हाईटैक सिस्टम के साथ दिन रात कावंड़ परिचालन की हर गतिविधि पर पैनी नजर रख रहे हैं। जहां कांवड़ मार्गों पर आधा दर्जन से अधिक अस्थायी फायर स्टेशन बनाये हैं, वहीं सीएफओ व एफएसओ लेबल के अधिकारी भी कावंड़ शिविरों में जाकर वॉलिंटियर्स को आग से बचने के उपाय भी बता रहे हैं।