ग्रेटर नोएडा (युगकरवट)। यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण की बोर्ड बैठक सोमवार को संपन्न हुई। बोर्ड बैठक में चार हजार करोड़ रुपए से अधिक का बजट स्वीकृत किया गया। साथ ही संपत्ति की दरों में 5 प्रतिशत वृद्धि, एकमुश्त समाधान योजना और नोएडा एयरपोर्ट के दूसरे चरण की जमीन खरीदने के प्रस्ताव पर मुहर लगी है।
यमुना प्राधिकरण के चेयरमैन व औद्योगिक विकास के प्रमुख सचिव अरविंद कुमार की अध्यक्षता में बोर्ड बैठक शुरू हुई। बैठक में यमुना विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ अरुणवीर सिंह के अलावा ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण सीईओ नरेन्द्र भूषण सहित कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक में वर्ष 2021-22 का बजट प्रस्तुत किया गया। नोएडा एयरपोर्ट के दूसरे चरण के लिए 500 करोड़ से अधिक की रकम आवंटित करने का बैठक में प्रस्ताव आया, जमीन अधिग्रहण पर 600 करोड़ रुपये खर्च करने का प्रस्ताव बोर्ड बैठक में आया। इसके अलावा प्राधिकरण अपने बजट में 300 करोड़ मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी के लिए भी आरक्षित करेगा। करीब 1300 करोड़ रुपए विकास व निर्माण कार्यों पर खर्च करने की तैयारी है। इस बजट में ग्रामीण विकास पर भी जोर दिया गया। करोना महामारी के कारण तमाम आवंटी बकाया किस्त समय से नहीं दे रहे हैं। उन्हें भी राहत देने का प्रस्ताव आया। उनके लिए एक मुश्त समाधान योजना लाकर बिना पेनाल्टी बकाया जमा करने के लिए बोर्ड बैठक में प्रस्ताव लाया गया। यमुना विकास प्राधिकरण क्षेत्र के सेक्टर- 32 में एटीएस का मुख्यालय व प्रशिक्षण केंद्र बनेगा, यहां कमांडो प्रशिक्षण लेंगे। एटीएस ने प्राधिकरण से जमीन मांगी थी, इसका प्रस्ताव भी बोर्ड बैठक में लाया गया।