युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। रविवार को गाजियाबाद दौरे पर आए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ जाते-जाते जनप्रतिनधियों व अधिकारियों को कड़ा संदेश देकर गए कि सभी समन्वय से मिलकर कार्य करें जिससे संक्रमण पर लगाम लगाई जा सके। सीएम योगी के सामने विधायकों ने अधिकारियों के फोन ना उठाने की शिकायत रखी थी तो वहीं अधिकारियों ने भी अपनी दिक्कतें सीएम के समक्ष रखीं। लेकिन सीएम के आपसी समन्वय रखने के निर्देश का असर जिले में दिखने लगा है। शहरों से लेकर गांवों में भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले के नामित कोविड अधिकारी डॉ.सेंथिल सी पंडियन व डीएम अजय शंकर पांडेय ने अधिकारियों के साथ महात्मा गांधी सभागार में बैठक की। बैठक के दौरान ही डीएम ने विधायकों को फोन कर उनसे उनके क्षेत्र में कोविड अस्पतालों, बेड्स, जरूरी दवाओं की किल्लत के अलावा मेडिकल किट वितरण के बारे में जानकारी ली और किस क्षेत्र में कितनी मेडिकल किट का वितरण किया जाना है, इस बारे में भी विधायकों को अवगत कराया। डीएम ने कोरोना संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए उठाए जा रहे जरूरी कदम के बारे में भी अवगत कराया व किस क्षेत्र में दिक्कतें हैं, उनकी भी जानकारी ली।
इसके बाद नोडल अधिकारी ने जिले में संक्रमण को लेकर समीक्षा की और गांवों में अधिक से अधिक जोर देने, टेस्टिंग, ट्रेसिंग पर जोर देने और संदिग्ध लक्षण वाले मरीजों को तत्काल प्रभाव से मेडिकल किट का वितरण करने के निर्देश दिए हैं ताकि समय रहते संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके। इतना ही नहीं, गांवों में आइसोलेशन वार्ड भी बनाए जा रहे हैं। बता दें कि लगातार जनप्रतिनिधि अधिकारियों पर संक्रमण को लेकर ठोस कार्रवाई ना करने का आरोप लगा रहे थे। इस मामले में विधायकों द्वारा शासन को पत्र भी लिखा गया था तो वहीं गांवों में भी जरूरी संसाधन उपलब्ध ना कराने का मुद्दा भी उठाया गया था। जिसे लेकर अब डीएम खुद फोन कर विधायकों से जानकारी जुटा रहे हैं। बैठक में सीडीओ अस्मिता लाल व एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल आदि अधिकारी मौजूद रहे।