नई दिल्ली। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस में बड़ा खुलासा हुआ है। पकड़े गए एक आरोपी ने दावा किया है कि हत्याकांड से पहले उन्होंने रेकी की थी, लेकिन सुरक्षाकर्मियों की वजह से प्लान को अंजाम नहीं दे पाये थे। गिरफ्तार आरोपी शाहरुख ने स्पेशल सेल को बताया है कि सिद्धू मूसेवाला को मारने का काम (सुपारी) उसे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई की तरफ से दी गई थी। उन्होंने पहले भी सिद्धू को मारने की कोशिश की थी लेकिन तब सुरक्षाकर्मियों को देखकर ये लौट गए थे।
पूछताछ में शाहरुख ने कुल 8 नाम बताये हैं, जिनपर उसने हत्यारों की मदद करने का आरोप लगाया है। इसमें पंजाबी सिंगर मनकीरत औलख के मैनेजर का नाम भी शामिल है। मीडिया को मिली जानकारी के मुताबिक, शाहरुख को गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई ने सिद्धू के मर्डर का काम सौंपा था। सूत्रों के मुताबिक, शाहरुख ने कहा कि वह भोला (हिसार का रहने वाला) और सोनू काजल (नारनौंद, हरियाणा) के साथ मूसेवाला के गांव गया था, लेकिन जब उसने वहां 4 पीएसओ एके-47 के साथ तैनात देखे तो उन्होंने हत्या का प्लान ड्रॉप कर दिया। तब गोल्डी ने उनको सिद्धू की हत्या के लिए यूजेडआई हथियार दिये थे। फिर शाहरुख ने हत्या के काम को अंजाम देने के लिए एके-47 और बियर स्प्रे की मांग की। फिर किसी वजह से शाहरुख इस काम से अलग हो गया। अब दावा किया जा रहा है कि सिद्धू के मर्डर में अब वही बोलेरो कार इस्तेमाल हुई है जिसे भोला और सोनू रेकी के दौरान इस्तेमाल करते थे। पूछताछ में कुल 8 नाम सामने आए हैं, जिन्होंने सिद्धू मूसेवाला के हत्यारों की मदद की जिनमें गोल्डी बराड़, लॉरेंस बिश्नोई, सचिन (मनकीरत औलख का मैनेजर), जग्मू भगवानपुरिया, अमित काजला, सोनू काजल और बिट्टू (दोनों हरियाणा के), सतेंदर काला (फरीदाबाद सेक्टर-8), अजय गिल शामिल हैं। शाहरुख गोल्डी बराड़ से सिग्नल ऐप से बातचीत करता था। उसका फोन फिलहाल स्पेशल सेल ने जब्त किया हुआ है।