मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कल गाजियाबाद शहर में रोड शो करेंगे। शहर विधानसभा के विधायक अतुल गर्ग को एक तरीके से ‘बिन मांगे मोती’ वाली कहावत चरितार्थ हो गई। शहर विधानसभा में मुख्यमंत्री का रोड शो चुनावी माहौल में अहम भूमिका निभाएगा। इससे इंकार नहीं किया जा सकता। अगर ये कहा जाए कि अतुल गर्ग का पूरा चुनावी माहौल योगी आदित्यनाथ का रोड शो बना देगा तो गलत नहीं होगा। हालांकि शहर से टिकट के कई और प्रबल दावेदार भी हैं लेकिन जिस तरह की तस्वीर सामने आ रही है, उससे यही लग रहा है कि अतुल जी ही चुनाव लड़ेंगे। मुख्यमंत्री के रोड शो को लेकर कई और विधायकों ने भी संगठन से संपर्क किया लेकिन महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा ने एक सिरे से सबकी बात को नकार दिया और उन्होंने कहा कि रोड शो शहर में ही होगा। जाहिर है संगठन का एक अलग महत्व होता है और चुनावी मौसम में तो संगठन ही सर्वोपरि है। टिकट वितरण से पहले रोड शो अपने आप में कई संकेत देगा। अमूमन रोड शो चुनाव प्रचार का हिस्सा होता है और इसमें जिस विधानसभा में रोड शो होता है, उसका उम्मीदवार ही सब व्यवस्था करता है। अभी टिकट नहीं घोषित हुए हैं इसलिए जितने भी दावेदार हैं, वो सब अपनी ताकत का एहसास कराकर भीड़ लाएंगे। इसलिए मुख्यमंत्री का रोड शो सफल होना तो तय है और फिर व्यस्त इलाके में कार्यक्रम रखा गया है इसलिए कई किलोमीटर तक जाम रहने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। संगठन ने अलग-अलग जिम्मेदारियां बांटी हैं। इस लिहाज से रोड शो में बड़ी भीड़ आने की संभावना है। अब भीड़ किसके खाते में जाएगी, ये तो अलग विषय है लेकिन जिस विधानसभा में कार्यक्रम हो रहा है स्वाभाविक है, उसको तो पूरा लाभ मिलना ही है। वहीं तीसरी आंख को पता चला है कि शहर विधायक और मंत्री मुख्यमंत्री का रोड शो के दौरान यादगार स्वागत करना चाहते हैं। ऐसा स्वागत जो शायद अभी कहीं नहीं हुआ होगा। वैसे भी अतुल गर्ग कुछ अलग करते रहते हैं। हो सकता है स्वागत में भी कुछ अलग ही दिखाई दे। वहीं मुख्यमंत्री के साथ रथ पर कौन सवार होगा इसको लेकर भी खूब चर्चाएं चल रही हैं। पार्टी हाईकमान द्वारा रथ पर सांसद-विधायक मौजूद रहेंगे, ऐसा कहा गया है लेकिन अब संगठन के हाथ में है कि वो किसको रथ पर सवार करायेगा। जाहिर है जो रथ पर सवार होगा, उसका भी अलग ही जलवा होगा।
– जय हिन्द।