युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। भारतीय खुफिया एजेंसियों और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने देश में बम धमाकों की एक बड़ी साजिश नाकाम कर दी है। पूछताछ में आतंकियों ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के टेरर मॉड्यूल में शामिल कुल 6 आतंकी पकड़े गए हैं। इनमें से दो आतंकवादियों को पाकिस्तान में ट्रेनिंग मिली थी। गौर करने वाली बात यह है कि इन दोनों आतंकियों को पाकिस्तान के उसी टेरर कैंप में ट्रेनिंग मिली थी, जहां से आईएस आई ने मुंबई हमले के लिए अजमल कसाब को तैयार किया था। पूछताछ में उन्होंने बताया कि एक बार फिर मुंबई जैसे बड़े हमले की साजिश की थी। यह टेरर फैक्ट्री पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मौजूद थट्टा नामक जगह पर है। इसे आतंकियों का गढ़ कह सकते हैं क्योंकि कई आतंकी संगठनों के कैंप यहां चलते हैं। थट्टा टेरर कैंप से ही ओसामा और कमर को ट्रेनिंग मिली थी। आईएसआई के इशारे पर इन्हें आईईडी लगाने के लिए दिल्ली और यूपी में मुफीद जगह ढूंढने की जिम्मेदारी दी गई थी। आतंकियों के पकड़े जाने के बाद अयोध्या समेत प्रदेश के कई धार्मिक स्थलों में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है। ये आतंकी आने वाले त्योहारों पर देश में कई जगहों पर धमाके की साजिश बुन रहे थे।
गिरफ्तार किए गए पाकिस्तान में प्रशिक्षित दोनों आतंकियों को थट्टा आतंकी कैंप में हमले के लिए तैयार किया गया था। अजमल कसाब को यहीं पर हथियारों की ट्रेनिंग और मुंबई के माहौल से परिचित कराया था। जांच एजेंसियों ने बताया है कि पाकिस्तानी हैंडलर दोनों आतंकियों को दो दर्जन लोगों के साथ मस्कट से समुद्री रास्ते से थट्टा टेरर कैंप ले गए थे। थट्टा काफी समय से भारतीय खुफिया एजेंसी के रेडार पर है क्योंकि यहीं पर लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और दूसरे पाकिस्तानी आतंकी समूहों के ट्रेनिंग कैंप मौजूद हैं। इसे प्रशिक्षित आतंकवादियों के चर्चित लॉन्चपैड के तौर पर जाना जाता है। पुलिस ने बताया है कि पाकिस्तान में मौजूद दाऊद इब्राहिम का भाई अनीस इब्राहिम आतंकी वारदात को अंजाम देने के लिए अंडरवल्र्ड के गुर्गों से जुड़ा था।