युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। मास्टर प्लान 2031 के लिए जीडीए के नियोजन विभाग ने प्रारूप तैयार कर लिया है। इसके लिए अब आम लोगों से आपत्ति और सुझाव मांगे है। आपत्ति और सुझाव अब से अगले महीने की 26 तारीख तक मांगे जा रहे हे। जो भी सुझाव और आपत्तियां आएंगी उन सब को जीडीए बोर्ड की बैठक में रखा जाएगा। इसके बाद मास्टर प्लान के प्रारूप को जीडीए संशोधित करेगा। गाजियाबाद जिले का मास्टर प्लान पहली बार अगले दस वर्ष के लिए बनाया जा रहा है। अभी तक अगले बीस वर्ष के लिए मास्टर प्लान बनाए जाते थे। जिले के तीन मास्टर प्लान बनाए जा रहे है। इनमें गाजियाबाद महानगर, लोनी और मोदीनगर-मुरादनगर शामिल है। केंद्र सरकार के शहरी विकास मंत्रालय की ओर से नियुक्ति कंसलटेंट कंपनी सर्वे कर रही है। इस पर करीब दो करोड़ रुपये खर्च हो रहे है। यह पैसा केंद्र सरकार दे रही है। कंपनी ने सर्वे रिपोर्ट पूरी कर ली है। मास्टर प्लान का प्रारूप तैयार कर लिया गया है। जीडीए अब इस प्रारूप के आधार पर आपत्ति और सुझाव मंाग रहा है। कोई भी व्यक्ति अगर उसे मास्टर प्लान गाजियाबाद, मोदीनगर और लोनी में किसी प्वाइंट को लेकर कोई समस्या है तो वह आपत्ति और सुझाव दर्ज करा सकेंगे।