युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। मारबल से भरे ट्रक पर वन विभाग द्वारा तीन लाख का टैक्स लगाने और उसके बाद गाड़ी को पकड़ लिये जाने की सूचना के बाद महानगर व्यापार मंडल से जुड़े कारोबारियों में उबाल आ गया। इसके बाद व्यापारियों का एक प्रतिनिधिमंडल महानगर अध्यक्ष गोपीचंद के नेतृत्व में जिला वन्य अधिकारी से मिला। लेकिन डीएफओ ने यह कहकर गाड़ी एवं उसमें भरा लाखों का माल छोडऩे से मना कर दिया कि बिना टैक्स दिए ना तो ट्रक और ना ही मारबल रिलीज किया जायेगा।
इस संदर्भ में महानगर अध्यक्ष गोपीचंद ने बताया कि वन्य विभाग के अधिकारियों की हठधर्मितापूर्ण रवैये के चलते व्यापारियों को धरना प्रदर्शन करने पर मजबूर होना पड़ा। गोपीचंद ने कहा कि कल रात को शंकर मार्बल का एक ट्रक मारबल भरकर आ रहा था। उसी समय वन्य विभाग की टीम ने ट्रक व माल को पकड़कर फर्म के ऊपर तीन लाख का ऐसा जुर्माना ठोक दिया जिसका किसी व्यपारी को पता ही नहीं है। उन्होंने कहा कि व्यापारियों का उत्पीडऩ किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जायेगा। वन्य विभाग के ऐसे रवैये के खिलाफ व्यापारियों का प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी से मिलेगा।