युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी द्वारा ब्राह्मïणों पर की गई टिप्पणी के बाद से गरमाई बिहार की राजनीति ठंडी नहीं हो रही है। मांझी के बयान के बाद भाजपा नेता गजेंद्र झा ने घोषणा की थी कि पूर्व मुख्यमंत्री की जुबान काट कर लाने वाले को 11 लाख रुपये का इनाम दूंगा, लेकिन उनकी ये घोषणा उन्हीं के लिए भारी पड़ गई।
झा के इस बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने कार्रवाई करते हुए गजेंद्र झा को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया है और स्पष्टीकरण मांगा है। इस संबंध में मधुबनी के भाजपा जिलाध्यक्ष शंकर झा ने गजेंद्र झा को निलंबित किए जाने का आदेश जारी किया है।
भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य और अंतर्राष्टï्रीय हिंदू महासभा के महासचिव गजेंद्र झा को पार्टी से निष्कासित करने के साथ ही मधुबनी जिलाध्यक्ष शंकर झा ने 15 दिनों के अंदर स्पष्टीकरण की भी मांग की है। बीजेपी जिलाध्यक्ष शंकर झा द्वारा जारी पत्र में लिखा गया है कि आपके द्वारा दिये गये अमर्यादित बयान से पार्टी को आघात पहुंचा है। आपको पार्टी से निष्कासित किया जाता है जो तत्काल प्रभाव से लागू होगा। गजेंद्र झा से 15 दिन के अंदर स्पष्टीकरण दिए जाने की मांग की गयी है।