युग करवट ब्यूरो
मुंबई। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के हाथ से सत्ता जाने के बाद एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री तो बन गए, लेकिन शिवसेना (उद्धव गुट) और सरकार में शामिल विधायकों के बीच रस्साकशी अब भी जारी है। आज महाराष्ट्र की विधानसभा में एक अजीब नजारा देखने को मिला। मानसून सत्र के दौरान आज शिवसेना के शिंदे गुट और उद्धव ठाकरे गुट के विधायक एक दूसरे से भिड़ गए।
दरअसल, महाराष्ट्र विधानभवन की सीढिय़ों पर शिंदे गुट के विधायक और भाजपा विधायकों ने पिछली सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इन विधायकों ने कोविड में हुए भ्रष्टाचार और उसपर तत्कालीन मुख्यमंत्री की उदासीनता के विरोध में नारे लगाए। उसी समय विपक्ष भी सीढिय़ों पर आकर जमकर नारेबाजी करने लगा। विपक्ष के विधायक हाथ में गाजर लेकर सत्ताधारियों को चिढ़ाने लगे। पहली बार विधानभवन की सीढिय़ों पर सत्तापक्ष और विपक्ष एक दूसरे के आमने-सामने भिड़ गए। इसके बाद उद्धव गुट के विधायक विधानसभा प्रांगण में शिंदे गुट के खिलाफ ‘50 खोके, एकदम ओके’ जैसी नारेबाजी करने लगे और दोनों गुट आपस में भिड़ गए। तब मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने विपक्ष को सदन में मर्यादा ना लांघने की चेतावनी दी।
इसके बाद भी दोनों तरफ से विधायकों के बीच नारेबाजी का दौर चलता रहा। स्थिति यहां तक पहुंच गई कि दोनों गुट फिर से आमने-सामने आ गए। जैसे-तैसे करके विधानसभा में स्थिति को संभाला गया। समाचार लिखे जाने तक दोनों गुटों में तनातनी का माहौल बरकरार था।