युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। पंजाबी समाज से आने वाले सरदार इंद्रजीत सिंह टीटू ने आज प्रेसवार्ता कर महापौर चुनाव में पंजाबी समाज को प्रतिनिधित्व देने की मांग उठाई। उन्होंने कहा कि महापौर चुनाव में आने वाले ढाई विधानसभा क्षेत्र में पंजाबी समाज के दस प्रतिशत मतदाता आते हैं। ऐसे में राजनीतिक दलों को महापौर चुनाव में पंजाबी समाज को नेतृत्व देने पर गभीरता से विचार करना चाहिए। उन्होंनें पार्षद के टिकटों में भी दस प्रतिशत पंजाबी समाज को देने की मांग उठाई। इंद्रजीत सिंह टीटू ने कहा कि 1952 से 1967 तक सरदार तेजा सिंह ने गाजियाबाद में पंजाबी समाज का प्रतिनिधित्व किया। उसके बाद से पंजाबी समाज को गाजियाबाद में नेतृत्व नहीं मिला। चुनाव आने पर पंजाबी समाज को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया जाता है। उन्होंने महापौर चुनाव में पंजाबी समाज के काबिल लोगों से आगे आने की मांग की। इंद्रजीत सिंह टीटू ने कहा कि गाजियाबाद विधानसभा में पंजाबी समाज के लगभग 40 हजार मतदाता हैं, साहिबाबाद में पंजाबी मतदाताओं की संख्या लगभग 80 हजार हैं, मुरादनगर विधानसभा के महापौर वाले क्षेत्र में भी लगभग 35 हजार पंजाबी रहते हैं। ऐसे में पंजाबी समाज को महापौर चुनाव में प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए। इंद्रजीत सिंह टीटू ने कहा कि पंजाबी समाज का इतिहास कुर्बानियों से भरा है। कारोना काल में पंजाबी समाज के लोगों ने जनता की बढ़ चढक़र सेवा की। पे्रसवर्ता के दौरान व्यापारी नेता एवं पंजाबी समाज से आने वाले तिलकराज अरोड़ा भी इंद्रजीत सिंह टीटू के साथ रहे।
रालोद हाईकमान तक भी पहुंचाई है मांग
इंद्रजीत सिंह टीटू रालोद से भी जुड़े हुए हैं। उन्होंने रालोद हाईकमान तक भी अपनी बात पहुंचाई है। उन्होंने कहा है कि वे पार्टी अध्यक्ष से मांग कर चुके हैं कि महापौर चुनाव में प्राथमिकता पर पंजाबी समाज को टिकट दिए जाएं। उन्होंने दावा किया कि महापौर का टिकट यदि पंजाबी समाज को मिलता है तो जीत सुनिश्चित हो सकती है।