युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। घरों से लेकर मंदिरों में आज महाअष्टमी पूजन को धूमधाम रही। व्रतियों ने अष्टïमी पूजन के बाद जहां अपने नवरात्रि व्रत के संकल्प पूरा किया तो वहीं मंदिरों में भी हवन पूजन किया गया। मां दुर्गा के दर्शनों को सुबह से ही भक्तों की भीड मंदिरों में रही। दिल्ली गेट स्थित श्रीबाला त्रिपुर सुंदरी देवी मंदिर में अष्टïमी के दिन महागौरी मां का पूजन किया गया। मंदिर के मंहत गिरीशानंद गिरी महाजरा ने बताया कि चैत्र नवरात्रि में पूरे नौ दिन मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की उपासना का विधान है। नवरात्रि में अष्टïमी और नवमी का खास महत्व होता है। अष्टमी के दिन महागौरी और नवमी के दिन सिद्घिदात्री मां का पूजन किया जाता है साथ ही जो भक्त नवरात्रि के व्रत रखते हैं वह अष्टïमी या नवमी पर कन्या पूजन के साथ ही अपने व्रत भी सम्पन्न करते हैं। नवरात्रि पर कन्या पूजन का भी विशेष महत्व माना जाता है। देवी दुर्गा मंदिर में चल रहे महायज्ञ में अष्टïमी पर श्री दुधेश्वर वेद विद्यपीठ के आचार्य व पंडितों ने हवन में आहूतियां दी। वहीं अष्टमी के दिन मंदिर में भक्तों की भीड भी रहीं। भक्त लम्बी लाइनों में लगे उत्साह से अपनी बारी का इंतजार करते रहे। मंदिर परिसर मां के जयकारों से लगातार गूंजायमान हो रहा था। भक्तों ने मां को नारियल और चुनरी, श्रंगार अर्पित किया। मंदिरों के अलावा घरों में भी व्रतियों ने कन्या पूजन किया। देवी स्वरूप कन्याओं को पूजन के बाद प्रसाद ग्रहण कराया व उपहार आदि दिए। इसके अलावा अष्टमी पूजन के उपरांत शहर में जगह-जगह भंडारों का भी आयोजन किया गया। सुबह से ही जगह-जगह भंडारे में प्रसाद बनाया गया व मां का पूजन कर प्रसाद वितरित किया गया।