युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। अब मनमाने रूट पर चालक अपने ऑटो नहीं चला सकेंगे। जो ऑटो जिस रूट पर निर्धारित होगा उसी रूट पर चलेगा, अन्य किसी रूट पर चलता पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसमें सीएनजी से लेकर अब ई-रिक्शा चालकों को भी शामिल किया गया है, जिससे शहर में बेतरतीब तरीके से ऑटो न चले और जाम की स्थिति न बनें। इसके तहत रूट नम्बर-१ आनंद विहार से मोहननगर, रूट नम्बर-२ आनंद विहार से डाबर तिराहा, वैशाली सेक्टर ३-४ की पुलिया, इंदिरापुरम, रूट नम्बर-३ आनंद विहार, पुराना बस अड्डा, मोहननगर, रूट-४ आनंद विहार, लालकुआं, एबीईएस, छिजारसी, सेक्टर-६२, यूपी गेट, रूट-५ आनंद विहार से विजयनगर, रूट-६ आनंद विहार, वैशाली से वसुंधरा, रूट-७ मोहननगर से लोनी तिराहा, रूट-८ मोहननगर कटोरी मिल से भोपुरा, रूट-९ मोहनगर, वसुंधरा चौक, सीआईएसएफ रोड, इंदिरापुरम, सेक्टर-६२, रूट-१० मोहननगर, करहेड़ा बिजलीघर, नागद्वार, मोरटी तिराहा, एएलटी, रूट-११ पुराना बस अड्डा से मोदीनगर, रूट-१२ पुराना बस अड्डा, घूकना मोड़, एएलटी, राजनगर एक्सटेंशन, रोटरी गोल चक्कर, नागद्वारा, हिण्डन गोल चक्कर, भोपुरा, रूट-१३ पुराना बस अड्डा, गोविंदपुरम, रूट-१४ पुराना बस अड्डा, राजनगर सेक्टर-२३ संजयनगर, रूट-१५ पुरान बस अड्डा, डासना, मसूरी, रूट-१६ पुराना बस अड्डा, बम्हैटा, रूट-१७ लालकुआं, मोहननगर, सीमापुरी, रूट-१८ लालकुआं, पुराना बस अड्डा, रूट-१९ नया बस अड्डा, डासना-मसूरी, रूट-२० यातायात पार्क मेरठ तिराहा, मुरादनगर, रूट-२१ यातायात पार्क मेरठ तिराहा, मोदीनगर, रूट-२२ एएलटी, हापुड़ चुंगी, रूट-२३ ट्रोनिका सिटी-नहर, रूट-२४ पुश्ता चौकी, डीएलएफ अंकुर विहार, रूट-२५ लालकुआं, डासना मसूरी, रूट-२६ नया बस अड्डा, नंदग्राम, रूट-२७ हापुड़ चुंगी, मोरटी, रूट-२८ निवाड़ी रोड चौकी, पतला, रूट-२९ मोदीपोन मोदीनगर, भोजपुर, रूट-३० तिगरी गोल चक्कर, विजयनगर, सिद्घार्थ विहार, नया बस अड्डा और रूट-३१ कौशाम्बी बस स्टैंड गेट नम्बर-१ के सामने, झंडापुर, सूर्यनगर का मार्ग निर्धारित किया गया है। एडीएम सिटी बिपिन कुमार ने बताया कि ३१ रूट निर्धारित किए गए हैं। ऑटो यूनियन और यातायात विभाग व परिवहन विभाग से समन्वय बनाकर सभी ऑटो चालकों को उनके निर्धारित रूट पर चलाया जाएगा।
इससे जहां सवारियों को आसानी होंगी, वहीं शहर में बेवजह ऑटो की भीड़ से लगने वाले जाम से भी निजात मिल सकेगी। ऑटो पर रूट नम्बर अनिवार्य रूप से अंकित होंगे, जिसमें ई-रिक्शा भी शामिल किए गए हैं। अभी तक ई-रिक्शा पर रूट निर्धारित नहीं था। इसकी वजह से यह ऑटो कही भी मुख्य मार्गों पर खड़े हो जाते हैं, जो जाम की वजह बनता है।