युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जीडीए मधुबन-बापूधाम कॉलोनी का ले-आउट प्लान गूगल मेप से जोड़ेगा। ताकि कोई भी व्यक्ति कॉलोनी के ब्लॉक और मकान तक गूगल मेपिंग के माध्यम से आसानी से पहुंच सके। जीडीए की यह पहली आधुनिक कॉलोनी होने जा रही है।
अभी तक जीडीए ने किसी भी कॉलोनी को सीधे गूगल मेपिंग के माध्यम से खुद नहीं जोड़ा है। बाद में हो सकता है कि जीडीए के मास्टर प्लान के माध्यम से कॉलोनी के लोगों को यह सुविधा मिली हो। दरअसल मधुबन-बापूधाम कॉलोनी एक बड़ी कॉलोनी है। वह 1234 एकड़ जमीन में फैली हुई कॉलोनी है। कॉलोनी का ले-आउट जीडीए पहले ही डिजाइन कर चुका है। हालांकि अभी कॉलोनी के ले-आउट के हिसाब से वहां प्रॉपर्टी को डिजाइन नहीं किया गया है। जीडीए जल्दी ही इस कॉलोनी में प्रॉपर्टी को डिजाइन कर अलग अलग ब्लॉक विकसित करने जा रहा है। जीडीए कॉलोनी में अभी तक करीब आठ हजार से फ्लैट आदि पर आवंटियों को कब्जा दे चुका है। कॉलोनी में मकान बनने के बाद लोकेशन की तलाश करना मुश्किल होगा। ऐसे में जीडीए की कोशिश है कि अब कॉलोनी के ले-आउट प्लान को गूगल मेपिंग से जोड़ा जाएगा। इससे गूगल के जरिए कॉलोनी में किसी भी लोकेशन पर पहुंचना आसान हो जाएगा।