नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। उत्तर प्रदेश सरकार ने नई तबादला नीति को मंजूरी दे दी है। इसमें एक जिले में तीन से पांच साल तक टिके अधिकारियों का प्राथमिकता पर तबादला होना है। ऐसे में जिला प्रशासन के अधिकारियों और कर्मचारियों में भी इसको लेकर अब कयास लगने शुरू हो गए हैं कौन-कौन इस दायरे में आते हैं। हालांकि जिला प्रशासन में ऐसे कई अधिकारी है जिनका इस बार तबादला होने की सम्भावना है। इसमें दो एसडीएम स्तर के अधिकारी हैं तो वहीं एक एडीएम का भी तबादला होने की सम्भावना है। इसके अलावा तीनों तहसील में भी कई तबादले हो सकते हैं। विकास भवन में ऐसे कई विभागों में अधिकारी ऐसे हैं जो जिले में पिछले तीन साल से तैनात हैं। स्वास्थ्य विभाग में भी कई अधिकारी हैं जिनके तबादला होने की सम्भावना है। हालांकि इन सबके बीच सब लोगों की नजर उन अधिकारियों पर भी है जो पिछले दस साल से जिले में टिके हुए हैं और हर बार तबादलों से बच जाते हैं। जिले में ऐसे कई अधिकारी हैं जो जिले में पिछले कई सालों से जमे हुए हैं। अब इस बार भी इनका तबादला होता है या नहीं यह देखने वाली बात है।