युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। लाउडस्पीकर हटाने और और उसकी आवाज कम करने के मुख्यमंत्री के आदेश का गाजियाबाद में पूरी तरह पालन किया जा रहा है। गाजियाबाद के कई मंदिरो से लाउडस्पीकर को हटा दिया गया। कैला भट्टा स्थित मरकज मस्जिद की छत से तीन लाउडस्पीकर को हटा दिया गया। दूधेश्वरनाथ मंदिर में अब सिर्फ एक लाउडस्पीकर लगा है, जो काफी समय से बंद है। महंत नारायण गिरी ने बताया कि दूधेश्वरनाथ मंदिर में पूजा या आरती के समय लाउडस्पीकर नहीं चलाया जाता है। पूरे मंदिर प्रांगण में एक ही लाउडस्पीकर लगा है, जो काफी समय से खराब पड़ा है। गाजियाबाद के मंदिरों में लगे लाउडस्पीकर का मुंह भी अब मंदिर की ओर कर दिया गया है। इसी तरह मरकज मस्जिद में अब सिर्फ एक लाउडस्पीकर लगा है। जिसकी आवाज भी कम कर दी गई है। सरकार के आदेश के बाद मंदिर और मस्जिदों में लगे लाउडस्पीकर की वॉल्यूम को कम कर दिया गया है।
ट्रांस हिंडन एरिया के कई मंदिरों में भी लाउडस्पीकर हटा दिए गए है। मोहननगर मंदिर में लाउडस्पीकर की आवाज को कम वॉल्यूम पर सेट कर दिया गया है। इसी तरह शहर की मस्जिदों में भी लाउडस्पीकर की आवाज को कम कर दिया गया है। वहीं प्रदेश में अब तक धार्मिक स्थलों पर लगे 17000 से ज्यादा लाउडस्पीकरों की आवाज कम कर दी गई है। साथ ही 130 जगहों से लाउडस्पीकरों को हटा दिया गया। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि सभी लाउडस्पीकरों को लोगों ने स्वेच्छा से आवाज कम कर दी है।