युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी मामले में अब केंद्र सरकार और भाजपा शीर्ष नेतृत्व भी हरकत में आ गया है। हिंसा और आगजनी के जुड़े कई वीडियो वायरल होने के बाद गृहराज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को दिल्ली तलब किया गया है। बताया जाता है कि प्रधानमंत्री कार्यालय से टेनी को फोन गया है। उन्हें पीएमओ के सामने अपना पक्ष रखने को कहा गया है। वहीं, टेनी ने आज गृहमंत्रालय में अपना पक्ष प्रस्तुत किया। टेनी ने आज गृहमंत्री अमित शाह के सामने अपना पक्ष रखा। बताया जा रहा है टेनी ने कहा कि उन्हें इस मामले में फंसाया जा रहा है।
इस बीच, हत्या, षडयंत्र और बलवा करने जैसी गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज होने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस अब अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्रा की गिर$फतारी कर रही है। आशीष मिश्रा की कभी भी गिरफ्तारी हो सकती है। किसान संगठन और प्रशासन के बीच हुए समझौते के बाद प्रशासन की ओर से आरोपी आशीष मिश्रा मोनू के खिलाफ हत्या समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया लेकिन चार दिन बाद भी उसकी गिरफ्तारी नहीं होने से विपक्ष को मुद्दा मिल गया। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी प्रधानमंत्री मोदी से आशीष मिश्रा को अबतक गिरफ्तार नहीं करने को लेकर सवाल पूछा था। वहीं, सूत्रों का कहना है कि प्रदेश के गृहमंत्रालय की ओर से पुलिस को इस मामले में बिन किसी दबाव में काम करने के निर्देश दिए गए।
इसके बाद से ही पुलिस आशीष मिश्रा को गिरफ्तार करने की तैयारी शुरू कर दी है। आशीष मिश्रा फिलहाल कहां है, इसके बारे में पुलिस कुछ भी कहने को तैयार नहीं है। वहीं, पीएमओ की सक्रियता के बाद अजय मिश्र की कुर्सी अब हिलने लगी है। उनसे इस्तीफा लिए जानेे की संभावना बढ़ गई है। वहीं, भाजपा शीर्ष नेतृत्व भी अजय मिश्रा से जवाब तलब करने की तैयारी कर रहा है। टेनी जल्द ही नड्डा और बीएल संतोष से मिलेंगे।