मंडियों के जरिए किसानों तक पहुंचेगा एक लाख करोड़
युग करवट संवाददाता
नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार और विभागों में फेरबदल के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली कैबिनेट बैठक ली। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई इस बैठक में किसानों के लिए कई फैसले लिए गए। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ेकैबिनेट में लिए गए फैसलों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मंडियों के जरिए किसानों तक एक लाख करोड़ रुपये पहुंचाए जाएंगे। साथ ही किसान समूहों को दो करोड़ रुपये का ऋण दिया जाएगा। मंडियां इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड का इस्तेमाल कर सकेंगी। एक लाख करोड़ रुपये के फंड का इस्तेमाल एपीएमसी कर सकेंगी। एपीएमसी मंडियों को मजबूत किया जाएगा और संसाधन प्रदान किए जाएंगे।
प्रेसवार्ता में मौजूद रहे नए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए पैकेज तैयार किया गया है। इसमें 15 हजार करोड़ केंद्र देगा और आठ हजार करोड़ राज्य। इसके अलावा 736 जिलों में पीसीयू बनाने का प्रावधान किया गया है। कोरोना की तीसरी लहर से निपटने में मेडिकल के अंतिम वर्ष के छात्रों की मदद ली जाएगी।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हर जिले में 10 हजार लीटर मेडिकल ऑक्सीजन स्टोर करने की तैयारी की जा रही है। इसके साथ ही देश में दो लाख 44 हजार नए बेड बनाए जाएंगे।  उन्होंने कहा कि हमें कोविड के खिलाफ मिलकर लडऩा होगा। सीमा अवधि अधिकतम नौ महीने है। हमें इसे जल्दी करना होगा। राज्यों को यह जल्दी करना होगा। कैबिनेट में फैसला लिया गया कि नारियल विकास बोर्ड में अब सीईओ की नियुक्ति की जाएगी। कृषि मंत्री ने कहा कि नारियल की खेती को बढ़ाने के लिए हम कोकोनट बोर्ड एक्ट में संशोधन कर रहे हैं। अब कोकोनट बोर्ड का अध्यक्ष एक गैर-अधिकारी व्यक्ति होगा। वह किसान समुदाय से होगा, जिसे इस काम के बारे में अच्छी जानकारी और समझ होगी।