युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। बीती रात भोजपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत कलछनी गांव के पास मेरठ-नोएडा एक्सप्रेस-वे पर हुए दर्दनाक हादसे के दौरान जहां मथुरा आरटीओ कार्यालय में तैनात लिपिक हर्ष गौतम समेत तीन दोस्तों की मौत हो गई वहीं दो मौत के मुंहाने पर पहुंच गये। इस हादसे की सूचना मिलने पर भोजपुर थाना पुलिस ने तीनों दोस्तों के शवों को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त ब्रेजा कार से किसी प्रकार बाहर निकालकर उन्हें पोस्टमार्टम के लिये मोर्चरी पहुंचाया।
साथ ही कार में फंसे दो गंभीर रूप से घायल व्यक्तियों को निकट के अस्पताल पहुंचाकर हादसे के कारकों की जांच शुरू कर दी। इस दौरान एक्सप्रेस-वे पर कुछ देर के लिये जाम की स्थिति भी बनी। बीती रात लगभग साढ़े बारह बजे के आस-पास हुए उक्त दर्दनाक हादसे के संदर्भ में एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा ने बताया कि मथुरा आरटीओ कार्यालय में लिपिक के पद पर तैनात हर्ष गौतम अपने तीन दोस्तों एवं एक परिचित के साथ गंगा स्नान के लिये मथुरा से हरिद्वार जा रहे थे।
कार हर्ष गौतम ही चला रहा था। कलछीना गांव के पास पहुंचने पर उनकी कार अचानक से अनियंत्रित होकर पहले तो डिवाइडर से टकराई और फिर काफी दूरी तक सड़क पर रगड़ती हुई चली गई। श्री राजा ने बताया कि इस हादसे में हर्ष गौतम पुत्र सतवीर गौतम, सुबोध पुत्र निहाल सिंह व मनीष चौधरी पुत्र राजेंद्र सिंह निवासी मथुरा की ठौर मौत हो गई जबकि कार में मौजूद इफ्तेकार पुत्र रहीम खान व मंजीत पुत्र हाकिम सिंह निवासी मथुरा भी गंभीर रूप से घायल हो गये। सूत्रों के अनुसार हादसे में घायल हुए दोनों व्यक्तियों की हालत भी नाजुक बताई जा रही है। बता दें कि पेरीफरेल एवं एक्सप्रेस-वे पर ऐसा कोई दिन नहीं जाता जब तेज रफ्तार अथवा अन्य कारणों की वजह से जानलेवा हादसे ना होते हों। बढ़ती दुर्घटनाओं पर लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है।