युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। प्रदेश की सत्ता में दोबारा वापसी के लिए जोरशोर से तैयारी में जुटी भाजपा ने इस बार बसपा और सपा के कोर वोट बैंक पर सेंध लगाने की जुगत कर ली हे। बसपा के कोर वोट बैंक दलित और सपा के यादव वोट बैंक पर सेंधमारी के लिए भाजपा ने बड़ी योजनाएं बनाई है। इन दोनों समुदायों के वोट को अपनी ओर करने के लिए भाजपा की ओर से शुक्रवार से सम्मेलनों का आयोजन किया जा रहा है। इन सम्मेलनों में भाजपा की ओर से केंद्र और राज्स सरकार द्वारा अनुसूचित जाति व यादवों के लिए किए गए कार्यों की जानकारी के साथ ही उनसे सीधे वार्तालाप किया जाएगा। इन सम्मलेनों में उठने वाली मांगों को घोषणा पत्र में शामिल किया जाएगा।
भाजपा 22 अक्टूबर को राजधानी लखनऊ में यादव सम्मेलन और 26 को अनुसूचित जाति का सम्मेलन करने जा रही है। हालांकि पार्टी ने इन आयोजनों को सामाजिक सम्मेलन का नाम दिया है। बीते दो दशक में प्रदेश की राजनीति तस्वीरों पर नजर दौड़ाए तो यादवों पर सपा की तो दलित और खासकर जाटव वोटरों पर बसपा की मजबूत पकड़ मानी जाती है। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने पहले सपा और बसपा को उनके आधार वोट बैंक तक सीमित रखने की योजना बनाई थी लेकिन अब पार्टी इन वोटों में भी सेंधमारी के प्रयास में जुट गई है। मिशन-2022 के लिए सामाजिक समीकरणों को दुरुस्त करने के लिए भाजपा ने सामाजिक सम्मेलन शुरू किए हैं। इन सम्मेलनों के जरिए अलग-अलग जातियों को साधने की योजना है। इसी कड़ी में 22 अक्तूबर को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में यादव सम्मेलन आयोजित किया गया है जबकि 26 अक्टूबर को इसी सभागार में अनुसूचित जाति सम्मेलन होगा।
पार्टी की ओर से बुधवार यानि कल राजभर समाज का सम्मेलन, हलवाई-कसौंधन और शिवहरे समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 21 को, नाई-सैन और सविता समाज का पंचायत भवन में 21 को, यादव समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 22 को, लुनिया या चौहान समाज का पंचायत भवन में 22 को, नामदेव और दर्जी समाज का गन्ना संस्थान में 23 को, विश्वकर्मा-पांचाल और जांगिड़ समाज का पंचायत भवन में 23 को, लोधी समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 26 को, पाल-बघेल समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 27 को, कुर्मी-पटेल और गंगवार समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 28 को, भुर्जी समाज का पंचायत भवन में 28 को, स्वर्णकार समाज का गन्ना संस्थान में 28 को, सैनी-कुशवाहा-शाक्य और सैनी समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 29 को, निषाद-कश्यप-केवट और मल्लाह समाज का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 30 को, चौरसिया समाज का पंचायत भवन में 30 को और राठौर-तेली व साहू समाज का समाजिक सम्मेलन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 31 अक्टूबर को होगा। इसके अलावा अनुसूचित मोर्चा सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन 26 अक्टूबर को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में होगा।