युग करवट ब्यूरो
आगरा। आज सुबह जघन्य हत्याकांड सामने आया है। भाजपा नेता ने चांदी व्यापारी को बहाने से अपने साथ ले जाकर सिकंदरा के गांव अरसेना में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद धारदार हथियार से उसका सिर धड़़ से अलग कर दिया। उसे कार में रखकर कहीं दूसरी जगह फेंकने की तैयारी थी। गश्त करती पुलिस ने अरसेना गांव से लगे जंगल में सडक़ किनारे खड़ी कार को देख तो शक हुआ। पुलिस ने भागने की कोशिश करते भाजपा नेता और उसके साथी को दबोच लिया। कार के पास ही सिर विहीन लाश पड़ी थी। कार को चेक किया तो उसकी पिछली सीट कटा हुआ सिर रखा था। यह देख पुलिस के भी होश उड़ गए।
सिकंदरा पुलिस आज तडक़े करीब साढ़े तीन बजे गश्त पर थी। इसी दौरान अरसेना गांव की सीमा से लगे जंगल के पास सडक़ किनारे खड़ी कार पर उसकी नजर पड़ी। एक युवक कार के बाहर खड़े होकर अपने हाथ साफ कर रहा था। जबकि दूसरा कार के अंदर बैठा हुआ था। पुलिस को देखकर दोनों युवक भागने की कोशिश करने लगा। पुलिस कार के पास पहुंची तो देखा कि उसके बाहर जमीन पर सिर कटी लाश पड़ी हुई है। पिछली सीट पर कटा हुआ सिर पड़ा था। पुलिस ने युवकों से पूछताछ की एक ने अपना नाम टिंकू भार्गव निवासी बेलनगंज बताया। दूसरे ने अपना नाम अनिल बताया। टिंकू ने बताया कि वह भाजपा के एक अनुषंगिक संगठन का पदाधिकारी है।
जिसकी हत्या की थी उसका नाम नवीन वर्मा निवासी तरकारी वाली गली लोहामंडी बताया। उसने चांदी व्यापारी को पहले शराब पिलाई। जिसके बाद गोली मारी और उसका सिर धारदार हथियार से काटकर धड़ से अलग कर दिया था। पुलिस ने चांदी व्यापारी के परिजन को हत्या की सूचना दी तो वह मौके पर पहुंच गए। भाई प्रवीन वर्मा ने पुलिस को बताया कि नवीन वर्मा चांदी व्यापारी थे। उनकी घर के बाहरी हिस्से में ही दुकान हैं। वह बृहस्पतिवार की दोपहर घर से निकले थे।
शाम को घर नहीं आए तो 6 बजे पत्नी प्रीति ने नवीन को फोन किया। नवीन ने बताया कि वह टिंकू के साथ हैं। पंद्रह मिनट में घर आ रहे हैं। जब एक घंटे बाद भी वह नहीं आए तो बच्चों ने दोबारा फोन किया। नवीन का मोबाइल स्विच आफ हो गया था। जिस पर परिजन ने टिंकू का नंबर मिलाया तो वह भी बंद था। स्वजन नवीन की तलाश में जुट गए। भाजपा नेता ने जिस कार से चांदी व्यापारी को लेकर आए थे। बताया जाता है कि किसी दोस्त की थी। जिसकी नंबर प्लेट बदल दी थी। जिससे कि सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में कार आ भी जाए तो उसका नंबर गलत होने के चलते वह पकड़ में नहीं आएंगे।