नई दिल्ली (युग करवट)। भाजपा इस लोकसभा चुनाव में ‘अबकी बार, 400 पार’ के नारे के साथ उतरी है और वह पूरी तरह से बड़ी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर पार्टी के तमाम बड़े नेता एनडीए की 400 से ज्यादा और अकेले भाजपा की 370 सीटें आने का दावा कर रहे हैं। ऐसे में जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पूछा गया कि अगर भाजपा बहुमत का आंकड़ा नहीं जुटा पाती है तो पार्टी का प्लान बी क्या होगा तो इसका उन्होंने काफी दिलचस्प जवाब दिया।
अमित शाह से पूछा गया कि ‘क्या बीजेपी के पास बहुमत के आंकड़े तक नहीं पहुंचने की स्थिति में कोई प्लान बी है? अमित शाह ने इस सवाल के जवाब में कहा कि प्लान बी बनाने की जरूरत तब होती है, जब प्लान ए के सफल होने की संभावना 60 प्रतिशत से कम हो। उन्होंने कहा कि उन्हें यकीन है कि पीएम मोदी प्रचंड बहुमत के साथ फिर से सत्ता में आएंगे। विपक्ष के नेता रैलियों में लगातार आरोप लगाते आए हैं कि अगर एनडीए 400 से ज्यादा सीटें जीत गई तो वह संविधान में बदलाव करेगी। अमित शाह से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि हमारे पास पिछले 10 वर्षों से संविधान बदलने के लिए बहुमत था लेकिन हमने ऐसा कभी नहीं किया। उन्होंने आगे कहा कि बहुमत का इतिहास हमारी पार्टी का नहीं है, बहुमत का दुरुपयोग इंदिरा गांधी के समय कांग्रेस पार्टी ने किया।