युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। विधानसभा चुनाव से ऐन पहले समाजवादी पार्टी ने विरोधी दलों को तगड़ा झटका दिया है। आज भाजपा के एक और बसपा के छह विधायक सपा में शामिल हो गए हैं। पार्टी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी को पार्टी की सदस्यता दिलाई। इसस पहले कल कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व विधायक पंकज मलिक और पूर्व राज्य सभा सांसद हरेंद्र मलिक भी सपा में शामिल हुए थे। बसपा के 6 विधायकों ने पार्टी से नाता तोड़कर साइकिल की सवारी कर ली है। इनमें धौलाना सीट से बसपा के टिकट पर जीतने वाले असलम चौधरी भी थे। चुनाव से पहले मायावती के लिए इसे एक बड़ा झटका माना जा रहा है। हालांकि, इन सभी विधायकों ने राज्यसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी का साथ दिया था। बसपा के विधायक हाजी मुजतबा सिद्दीकी, हाकिम लाल बिंद, सुषमा पटेल, असलम चौधरी, हरगोविंद भार्गव और असलम राईनी सपा में शामिल हो गए। पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ पार्टी ऑफिस सभी 6 विधायकों को समाजवादी पार्टी की सदस्यता दिलाई। मुजतबा सिद्दीकी और हाकिम लाल बिंद प्रयागराज से विधायक हैं। इसके अलावा सीतापुर से भाजपा के सीटिंग एमएलए राकेश राठौर ने भी आज समाजवादी पार्टी की लाल टोपी पहन ली। माना जा रहा है कि सभी समाजवादी पार्टी की ओर से विधानसभा का टिकट दिया जाएगा। इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा के खिलाफ जनाक्रोश इतना है, जनता इतनी दुखी है कि आने वाले समय में भाजपा का सफाया हो जाएगा। उन्होंने कहा कि बहुत सारे ऐसे लोग हैं, जो सपा में आना चाहते हैं. आने वाले समय में तस्वीर स्पष्ट हो जाएगी। अखिलेश ने कहा, भाजपा ने घोषणापत्र के वादों को पूरा नहीं किया। भाजपा ने वादा किया था कि 2022 तक किसानों की दोगुनी हो जाएगी। लेकिन आज किसान ये जानना चाहता है कि किसानों की आय दोगुनी कब होगीद्घ आज सभी जरूरी सामान महंगा हो गया।