युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। आज सुबह गाजीपुर बॉर्डर पर प्र्रदेश के नवनियुक्त मंत्री अमित वाल्मीकि के स्वागत के दौरान भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं और किसानों के बीच किसी बात को लेकर भिड़ंत हो गई थी। उक्त भिडं़त के दौरान जहां कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया वहीं भाजपा नेताओं का कहना है कि किसान नेता राकेश टिकैत की अगुवाई में किये गये हमले के दौरान उनकी पार्टी के कई नेता व कार्यकर्ता भी चोटिल हो गये। प्रदेश मंत्री अमित वाल्मीकि के स्वागत के दौरान हुए हमले की रिपोर्ट संगीन धाराओं में दर्ज करवाने और हमले के आरोपी किसान नेता व उनके समर्थकों को गिरफ्तार करके जेल भेजने की मांग को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं और वाल्मीकि समाज के सैंकड़ों लोगों ने डीआईजी/एसएसपी कार्यालय पर ना केवल धरना प्रदर्शन किया बल्कि अपने-अपने वाहनों को सड़क पर खड़ा कर मार्ग भी अवरूद्घ कर दिया। इतना ही नहीं, भाजपा नेताओं और पुलिस के बीच नोक-झोंक भी हुई। समाचार लिखे जाने तक भाजपा कार्यकर्ता व वाल्मीकि समाज के सैंकड़ों लोग एसएसपी कार्यालय का घेराव किये हुए थे। प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं का नेतृत्व कर रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पार्षद यशपाल पहलवान का कहना था कि वह एसएसपी कार्यालय के सामने से तब तक नहीं हटेंगे जब तक डीआईजी उनके बीच पहुंचकर जानलेवा हमला करने वाले किसान नेता राकेश टिकैत और उनके अन्य हमलवार सहयोगियों के खिलाफ संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज करके आरोपितों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने का आश्वासन नहीं देंगे।
उधर जब गाजीपुर बॉर्डर पर भाजपा कार्यकर्ताओं एवं किसानों के बीच हुई भिड़ंत के मामले में डीआईजी अमित पाठक से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि प्रदेश मंत्री के स्वागत के दौरान गाजीपुर बॉर्डर पर धरनारत किसानों ने काले झंडे दिखाये थे। उसी समय दोनों पक्षों मे भिड़ंत हो गई। श्री पाठक ने बताया कि उक्त प्रकरण का पता चलते ही वह भी जिलाधिकारी के साथ मौके पर पहुंच गये। उन्होंने बताया कि इस प्रकरण की जांच की जा रही है और जो भी तथ्य सामने आयेंगे, उनके आधार पर कार्रवाई की जायेगी।