युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। राष्टï्रीय जागरूक ब्राह्मïण महासंघ ने भगवान परशुराम की मूर्ति का अनावरण पीएम मोदी से कराने की मांग को लेकर डीएम के माध्यम से पीएम के नाम सौंपा। इसके अलावा महासंघ ने अपनी १५ सूत्रीय मांगों को भी रखा है।
ज्ञापन देने आए महासंघ के पदाधिकारियों ने कहा कि सनातन धर्म एवं भारत के इतिहास में भगवान परशुराम व आचार्य चाणक्य के बिना देश की संस्कृति अधूरी है। इन दोनों पर ही परिवार की राजनीति एवं परिवार के नाम पर सत्ता हासिल करने की चुनौती थी। इसलिए इस समाज के उत्थान व पूर्वजों के सम्मान के लिए इंडिया गेट पर भगवान परशुरामी की मूर्ति का अनावरण पीएम मोदी द्वारा किया जाए। महासंघ की मांग है कि आचार्य चाणक्य की मूर्ति की स्थापना देश के सभी विवि में अनिवार्य रूप से हो। मठ-मंदिरों में पुजारी ब्राहम्ण जाति से हों और सरकार उन्हें न्यूनतम वेतन देने की व्यवस्था करें। ब्राहम्ण आयोग का गठन हो जिसमें सभी अधिकारी ब्राहम्ण हो। देश के सभी जिलों में आचार्य चाणक्य के नाम पर गुरुकुल की स्थापना की जाए, वेदशास्त्र को कक्षा से छह से बारहवीं के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए। सेना में ब्राहम्ण रेजीमेंट की स्थापना की जाए। मेजर सोमनाथ शर्मा के नाम पर कश्मीर के एक जिले का नाम रखा जाए। अरूणाचल प्रदेश में भगवान परशुराम कुंड के विकास को सरकारी फंड से टूरिज्म बनाया जाए। जेवर एयरपोर्ट का नाम भी भगवान परशुराम के नाम पर रखा जाए। जिला अध्यक्ष पंडित तरूण शर्मा ने कहा कि अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो लगातार अभियान चलाया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में कपिल शर्मा, प्रवीन त्यागी, बुद्घप्रकाश शर्मा, पंकज शर्मा, वीरेन्द्र कुमार कंडेरे आदि शामिल रहे।