प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। नगर निगम बोर्ड की बैठक में जिस एफओबी के निर्माण कार्य को रुकवाने का प्रस्ताव पास हुआ था, वह एफओबी बनकर तैयार भी हो गया है। यह एफओबी न्यू लिंक रोड पर सिद्घार्थ विहार डीपीएस के सामने बना गया है। शहर में एफओबी बनाने का ठेका दस वर्ष पहले 2013 में 14 स्थानों पर बीओटी के आधार पर छोड़ा गया था। इनमे से अधिकतर एफओबी उसी समय बन गए थे, मगर हापुड़ चुंगी के पास उसी अनुबंध के आधार पर एफओबी मेयर आशा शर्मा का चुनाव होने के बाद बना था। क्यों बना और किस नियम के तहत बना इस पर कभी अधिकारी नहीं बोले।
अब हिंडन शमशान घाट के सामने चुपचाप तरीके से एफओबी बन गया। वह भी दस वर्ष पहले हुए अनुबंध के आधार पर। अब किसने इसे बनाने की अनुमति दी, इस पर भी निगम अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं। अब डीपीएस सिद्घार्थ विहार के सामने एफओबी बनकर लगभग तैयार हो गया। यह वही एफओबी है जिसेे लेकर नगर निगम बोर्ड की इसी महीने की सात जनवरी को हुई बैठक में विवाद हुआ था। बोर्ड ने प्रस्ताव पास नहीं किया था। उस समय न्यू लिंक रोड नहीं बनी थी। फिर अब किसी तरह से निगम ने वहां एफओबी बनाने की अनुमति जारी कर दी।