युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियानों को लेकर केन्द्र व प्रदेश सरकार गंभीर रुख अपना रही है लेकिन जिले में इस अभियान को संचालित करने के लिए अभी तक शासन से कोई बजट तक रिलीज नहीं किया गया है। जिले में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के लिए २६ लाख का बजट स्वीकृत किया गया थ, लेकिन बजट स्वीकृत होने के बाद अभी तक भी जिला प्रोबेशन विभाग को बजट उपलब्ध नहीं हो सका है इसकी वजह से अभियान को संचालित करने में विभागीय अधिकारियों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। गतवर्ष भी विभाग को बजट देरी से मिला था लेकिन इस बार महीनों हो गए हैं पर बजट रिलीज नहीं हो सका है। बजट न होने के कारण विभाग बड़े स्तर पर अभियान के तहत बड़े कार्यक्रमों का संचालन नहीं करा पा रहा है। बजट में इस देरी का यह आलम तब है जब शासन अपने हर कार्यक्रम में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देता है, लेकिन धरातल पर यह अभियान कितने गंभीर स्तर पर संचालित हो रहा है इसकी बानगी बजट रिलीज न होने से पता चलती है। विभागीय अधिकारियों का कहना है बजट देर सवेर रिलीज हो जाएगा। अभियान को संचालित करने के लिए अन्य मदों से धनराशि लेकर समय से कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।