युग करवट संवाददाता
नोएडा। सेक्टर-35 स्थित उपसहायक संभागीय परिवहन विभाग के कार्यालय में परिवहन विभाग और ऑटो एसोसिएशन के पदाधिकारियों की एक बैठक आयोजित की गयी। बैठक के दौरान एआरटीओ प्रवर्तन और प्रशासन ने ऑटो एसोसिएशन के पदाधिकारियों को कई आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए। साथ ही ऑटो एसोसिएशन को निर्देश दिया कि अब गौतमबुद्ध नगर में बिना मीटर के ऑटो का संचालन नहीं हो सकेगा। अगर कोई भी ऑटो बिना मीटर के सडक़ों पर मिलता है तो परिवहन विभाग ऐसे ऑटो और चालकों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करेगा। एआरटीओ प्रशासन एके पाण्डेय ने बताया कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा में परिवहन विभाग ने ऐसे करीब 25 ऑटो को अभियान दौरान पकड़ा था। जिन ऑटो में मीटर नहीं लगा हुआ था।
परमिट की शर्त के अनुसार ऑटो में सवारियों की संख्या निर्धारित है और मीटर भी अनिवार्य है। इसके बावजूद चालक मीटर न लगाकर मनमाने तरीके से सवारियां बैठाकर मनमानी कर रहे हैं। परिवहन विभाग की प्रवर्तन टीम ने पकड़े गए प्रत्येक ऑटो पर एक-एक हजार रूपए का जुर्माना किया है। अनफिट ऑटो को जब्त भी किया गया है। एआरटीओ प्रवर्तन प्रशांत तिवारी ने बताया कि गौतमबुद्ध नगर में करीब 17600 ऑटो पंजीकृत हैं। सभी ऑटो का परमिट तीन सवारी और एक चालक का होता है। लेकिन, चालक ऑटो में अतिरिक्त सीट लगाकर दस और इससे अधिक सवारी बैठाते हैं। नोएडा सीएनजी ऑटो चालक एसोसिएशन के अध्यक्ष ओमप्रकाश गुर्जर ने बताया कि गौतम बुद्ध नगर में दौडऩे वाले ऑटो मीटर का किराया 6.50 रुपये से डाउन होकर करीब 5.50 रुपये प्रति किलोमीटर निर्धारित है।
कोई भी चालक इसका पालन नहीं करता है। चालक दूरी के आधार पर सवारी से किराया लेते हैं। गौतमबुद्ध नगर सीएनजी ऑटो एसोसिएशन (एनसीआर) के अध्यक्ष लाल बाबू ने बताया कि ऑटो का मीटर 25 रुपये से डाउन होता है और दो किलोमीटर बाद प्रति किमी आठ रुपये किराया निर्धारित है। दिल्ली में प्रति किलोमीटर दस रुपये किराया कर दिया गया है। यहां पर एनसीआर समझौते का पालन न करते हुए इसमें वृद्धि नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि चालकों को दिल्ली और गाजियाबाद की सवारी न मिलने पर जिले में बिना मीटर डाउन किए चलने में ज्यादा फायदा होता है।