गौतमबुद्घनगर डीएम से पूर्व प्रधान श्रीपाल भाटी ने की शिकायत
नगर संवाददाता
गौतमबुद्घनगर (युग करवट)। गौतमबुद्घ नगर गांव सैंथली निवासी पूर्व प्रधान श्रीपाल भाटी ने जवाहर जुनियर हाई स्कूल सैंथली की मैनेजमेंट कमेटी पर स्कूल की जमीन खुर्दबुर्द करने का आरोप लगाया है। पूर्व प्रधान ने डीएम गौतमबुद्घ नगर को शिकायत करते हुए आरोप लगाया कि इस स्कूल में करीब ३०० छात्र-छात्राएं पढते हैं।
बिना किसी चुनाव के, बिना परमिशन के लिए समिति का अध्यक्ष व मैनेजर श्यामवीर पुत्र प्रेमसिंह व सेंसरपाल पुत्र मक्खन सिंह बन गए हैं और स्कूल की जमीन से अवैध खनन कर मिट्टी उठवा रहे हैं जिसे ४५०० रुपए डम्पर बेचा जा रहा है। स्कूल की आठ बीघा जमीन पर खनन हो रहा है, तो वहीं छह बीघा जमीन पर मैरिज होम बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। पूर्व प्रधान ने डीएम से मांग की है कि तत्काल काम रूकवा जाए, अवैध कमेटी को भंग कर नई कमेटी बनाई जाए। कमेटी ने ५०० वर्ग गज में पंचायत घर बना दिया। इस तरह से स्कूल की जमीन को खुर्दबुर्द करने का काम किया जा रहा है।
डीएम को दी गई शिकायत में कहा गया है कि गांव जवाहर जूनियर हाईस्कूल सैंथली में हैं जिसमें अन्य गांव के सैंकडो छात्र पढते हैं। स्कूल के खाता सं.- १३० के खसरा नम्बर-१९० रकबा ०.६००० हैक्टेयर भूमि व खाता संख्या-१३० के खसरा नम्बर-५०० रकवा ०.१९००० है.भूमि, खाता संख्या-१३० के खसरा नम्बर ५२५ रकबा ३.८०९० हैक्टयर भूमि व खाता संख्या १३० के खसरा नम्बर-५२७ रकबा ०.२६६० हैक्टयेर भूमि जवाहर हाई स्कूल सैंथली के नाम है। जिसमें दस बीघा जमीन में स्कूल की इमारत बनी हुई है। बाकी की जमीन खाली है जिसमें खेती कराई जा रही है। स्कूल ग्राउंड के लिए कोई जमीन नहीं है। आरोप है कि स्कूल की मैनेजमेंट कमेटी में शामिल लोग जमीन का दुरुपयोग कर रहे हैं और जमीन को दो वर्ष के ठेके पर ७,१५००० रुपए में दे रखी है और उस पैसे का दुरुपयोग अपने निजी कार्य में कर रहे हैं। बिना किसी चुनाव के अपने आप मैनेजमेंट कमेटी गठित कर लेते हैं जिसकी परमिशन बीएसए से भी नहीं ली गई।
मैनेजमेंट कमेटी ने आज तक स्कूल के लिए कोई कार्य नहीं कराया है। कमेटी के अध्यक्ष श्यामवीर सिंहस व सैंसपाल दोनों मिलकर स्कूल की जमीन से अवैध खनन मिट्टी उठवा रहे हैं जिसे ४५०० रुपए डम्पर बेच रहे हैं। कुछ स्कूल की जमीन करीब आठ बीघा में से खनन कर रहे हैं और मिट्टी उठवाकर दूसरी जगह बेच रहे हैं, तथा स्कूल नियमावली की धारा १४ (२) के तहत स्कूल की भूमि का दुरुपयोग करके उसके छह बीघा जमीन में मैरिज होम बना रहे हैं। जिसका कोई अधिकार प्रबंधक व मैनेजमेंट कमेटी को नहीं है। मैरिज होम के लिए पिलर खडे कर दिए हैं। पूर्व प्रधान ने कहा कि अगर इन्हें नहीं रोका गया तो सारी जमीन चली जाएगी।
कमेटी ने ५०० वर्ग गज में पंचायत घर बना दिया है। चकबंद प्रक्रिया में जो १९५७ में हुई थी, उसमें गांव के लोगों द्वारा अपनी भूमि कटौती करवाकर जवाहर जुनियर हाई सकूल सैथली को दी थी। वर्तमान में उपरोक्त भूमि स्कूल के नाम कागजात में दर्ज है जो चकबंदी विभाग द्वारा स्कूल को दी गई थी। उपरोक्त स्कूल की स्थापना वर्ष १९६३ में हुई थी, तभी से आज तक स्कूल लगातार चल रहा है। लेकिन जमीन को खुर्दबुर्द कर उसे कब्जाने का प्रयास किया जा रहा है।