युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। मेरठ रोड के आसपास मोदीनगर तक स्थित 19 इंजीनियरिंग कॉलेज और स्कूलों ने आज तक बिल्डिंग का जीडीए से कंप्लीशन ही हासिल नहीं किया है। इन सब को जीडीए ने नोटिस जारी किए तो किसी एक ने भी जीडीए में जवाब दाखिल नहीं किया है। इन इंजीनियरिंग कॉलेजों में एक मंत्री की हिस्सेदारी का भी बताया जाता है। माना जा रहा है कि अगले महीने इन पर जीडीए एक्शन लेगा।
जीडीए ने हाल ही में बिना नक्शे के पास हुई कई बिल्डिंगों को तोड़ दिया। इसके बाद जीडीए को किसी ने एक शिकायत की। जिसमें बताया गया कि मेरठ रोड पर कई इंजीनियरिंग कॉलेज और स्कूल है जिनकी बिल्डिंग जीडीए से बिना नक्शा पास कराए बनाई गई है। प्रवर्तन प्रभारी सीपी त्रिपाठी ने इस मामले को गंभीरता से लिया। उन्होंने सर्वे कराया तो पता चला कि गाजियाबाद के दुहाई से लेकर मोदीनगर तक 19 ऐसे इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, एलएलबी आदि कॉलेज और स्कूल है जिन्होंने जीडीए से नक्शा पास कराए बिना ही बिल्डिंग बना ली।
जांच के बाद जीडीए की ओर से इन सभी इंजीनियरिंग कॉलेज के मैनेेजमेंट को कारण बताओं नोटिस जारी कर दिया गया। 20 अगस्त तक सभी को जवाब जीडीए में दाखिल करना था। मगर पता चला कि किसी एक भी कॉलेज और स्कूल मैनेजमेंट की ओर से इस मामले में जीडीए को जवाब नहीं दिया गया है। अब जीडीए का कहना है कि वह अब फाइनल नोटिस जारी करेगा।