युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कोरोना संक्रमण का असर अब कम हो रहा है। अगले महीने से बरसात का दौर भी शुरू होगा और शहर के निवासियों के लिए अब एक और नई चुनौती पैदा होने जा रही है। यह चुनौती है, संचारी रोग यानि संक्रमण रोगों को लेकर। यह रोग बरसात का मौसम शुरू होने के साथ ही चालू हो जाता है। इसमें कई तरह के रोग संक्रमण से फैलते हैं। इस बार कोविड-19 के कारण संक्रमण को लेकर भय का वातावरण बना हुआ है और बरसात के दौरान इस पर कैसे रोक लगाई जाए, इसको लेकर नगर निगम में पार्षदों के साथ बैठक हुई।
बैठक में संचारी रोग विभाग के डॉक्टर्स के अलावा अपर नगर आयुक्त प्रमोद कुमार शामिल हुए। इस दौरान पार्षद भी मौजूद रहे जिनकी संख्या एक तिहाई से भी कम रही। कई पार्षद इस बैठक में नहीं पहुंचे। इस दौरान कार्यशाला में इस बात पर चर्चा हुई कि बरसात के दौरान संक्रमण के फैलने का खतरा और भी बढ़ जाता है। इसमें कोरोना संक्रमण के साथ-साथ अन्य बीमारियों के फैलने का भी खतरा है। सभी पार्षदों से हेल्थ विभाग ने सहयोग की मांग की है। विभाग का कहना है कि वार्ड में पार्षदों की संक्रमण की रोकथाम में अहम भूमिका हो सकती है। हेल्थ विभाग ने अपील की है कि अगर कहीं संक्रमण का प्रभाव दिखाई देता है तो नगर निगम के पार्षद इसकी सूचना तुंरत हेल्थ विभाग को दें।