डेढ़ से दो महीने में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर
युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना से इनकार नहीं किया सकता है। भले ही दूसरी लहर पर काबू पा लिया गया हो लेकिन अब अगर लापरवाही हुई तो तीसरी लहर जल्द आ सकती है। यह कहना है एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया का।
उन्होंने कहा कि जून महीने में कोरोना की दूसरी लहर से थोड़ी राहत मिलती दिख रही है लेकिन यह पूरी तरह मंद नहीं पड़ी है। भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकत है।
डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अगले 6 से 8 हफ्तों में यानी की 2 महीने के अंदर भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है। दूसरी लहर में भारत में अस्पतालों में बिस्तर की कमी के साथ ही मेडिकल सप्लाई की भी कमी हो गई थी। दूसरी लहर के बीच कई राज्यों ने सख्त प्रतिबंध लागू किए थे, जिनमें अब ढील दी जा रही है।
उन्होंने कहा कि हमने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर दी है और फिर से कोरोना नियमों का पालन करने में लापरवाही देखी जा रही है। ऐसा लगता है जैसे पहली और दूसरी लहर में जो कुछ हुआ, हमने उससे कुछ सीखा नहीं। फिर से भीड़ जमा हो रही है। लोग इक_े हो रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना संक्रमण के आंकड़े बढऩे में समय लगेगा लेकिन अगले 6 से आठ हफ्तों में केस बढऩे लगेंगे..या कुछ और देर से। यह सब निर्भर करता है कि हम कैसे कोरोना नियमों का पालन कर रहे हैं और भीड़ इक_ा होने से रोक रहे हैं।
कोरोना संक्रमण ने दुनियाभर में अब तक 40 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। इसमें 50 फीसदी हिस्सेदारी भारत, अमेरिका, ब्राजील, रूस और मेक्सिको शामिल हैं। वहीं, भारत में बीते 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के 60 हजार 753 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद अब देश में ऐक्टिव मामले घटकर 7 लाख 60 हजार के पास पहुंच गए हैं। वहीं, 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक वैक्सीन की 27.23 करोड़ खुराकें लगाई गई हैं। देश में महामारी की शुरुआत से अब तक कुल 38 करोड़ 92 लाख 7 हजार 637 सैंपलों की जांच की गई है।