गाजियाबाद (युग करवट)। दिल्ली-नोएडा के स्कूल में मिले धमकी भरे ईमेल का असर गाजियाबाद के भी स्कूलों पर देखने को मिला। जैसे ही यह खबर प्रसारित होना शुरू हुई। शहर के स्कूलों में अभिभावकों के फोन आने शुरू हो गए। स्थिति को देखते हुए सभी स्कूलों की ओर से पेरेंट्स के मोबाइल पर मैसेज प्रसारित किया गया कि उनका स्कूल पूरी तरह से सुरक्षित है, अभिभावक पैनिक न हों, आपके बच्चे और स्कूल पूरी तरह से सुरक्षित है। अगर आप अपने बच्चों को स्कूल से ले जाना चाहते हैं, तो वह ले जा सकते हैं। मैसेज जारी होने के बाद भी अभिभावक बडी संख्या में अपने बच्चों को लेने स्कूल पहुंचे।
अभिभावकों के पहुंचने कारण स्कूलों ने भी बच्चों को बीच क्लास में भेजना शुरू कर दिया। अधिकतर स्कूलों से मैसेज जारी होने के बाद अभिभावक अपने बच्चों को लेने स्कूल पहुंच रहे हैं। डीपीएस स्कूल मेरठ रोड की प्रिंसीपल कैप्टन डॉ.दिनिशा भारद्वाज सिंह ने कहा कि दिल्ली में घटना के बाद से सभी अभिभावकों को मोबाइल पर पैनिक न होने के मैसेज भेजे गए हैं। लेकिन अगर कोई अभिभावक अपने बच्चों को लेने आ रहे हैं, तो बच्चों को उनके साथ भेजा जा रहा है। स्कूल में सिक्योरिटी और बढ़ा दी गई है, वह बाहरी लोगों के प्रवेश पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। सिर्फ अभिभावकों को भी उनकी आईडी देखने के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। इतना ही नहीं कई स्कूलों ने छुट्टी की घोषणा करते हुए अपने स्कूल बंद कर दिए और बच्चों को एहितयात बरतते हुए घर वापस भेजा। डीआईओएस राजेश श्रीवास ने बताया कि स्कूलों को कहा गया है कि अगर उनके पास कोई मैसेज आता है तो तत्काल पुलिस का इंफार्म करें।