युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जीडीए की मधुबन-बापूधाम आवासीय योजना से प्रभावित किसानों के एक प्रतिनिधि मंड़ल ने आज जीडीए वीसी कृष्णा करुणेश के साथ बैठक की। किसानों की ओर से इस प्रतिनिधि मंड़ल की अगुवाई किसान नेता सुदीप शर्मा ने की। उनके साथ अन्य सात और किसान इस बैठक में शामिल हुए। इनमें किसान, बोस चौधरी, भोपाल सिंह, यशपाल सिंह, धर्मवीर सिंह, गोरीशंकर, रामनाथ और ईलम सिंह शामिल है। बैठक में जीडीए वीसी के अलावा एडीएम भू अर्जन, सचिव, तहसीलदार जीडीए आदि अधिकारी बैठक में मौजूद रहे।
पिछले सोमवार को मधुबन-बापूधाम कॉलोनी से प्रभावित छह गांवों के किसानों ने जीडीए का घेराव किया था। किसानों की मांग थी कि उन्हें भी कॉलोनी की जमीन का बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जाए। जीडीए 281 एकड़ जमीन से प्रभावित किसानों को जमीन का मुआवजा नए भू अर्जन एक्ट के हिसाब से बढ़ा हुआ दे चुका है। किसानों का कहना है कि आपसी समझौते के तहत जीडीए ने जब वर्ष 2009 में किसानों की जमीन अधिग्रहण की थी उस समय लिखकर दिया था कि अगर कोर्ट से एक भी किसान को उनकी जमीन का बढ़ा मुआवजा देने का आदेश होता है तो इसका लाभ सभी किसानों को मिलेगा। प्रतिनिधि मंड़ल में शामिल किसानों ने जीडीए को दो टूक कर दिया कि स्कीम में शामिल सभी किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जाए। जीडीए इस पर पहले से ही आनाकानी करता आया है। समाचार लिखे जाने तक किसानों और जीडीए के बीच वार्ता चल रही थी। सूत्रों के मुताबिक सभी किसानों को जमीन का बढ़ा हुआ मुआवजा देने से जीडीए ने इंकार कर दिया है। हालांकि इसकी पुष्टि किसान नेता और जीडीए अधिकारियों ने नहीं की। समाचार लिखे जाने तक दोनों पक्षों में वार्ता जारी थी।