युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। आज सुबह तहसील बार एसोसिएशन के तत्वावधान में बाद एसोसिएशन की आपात बैठक अध्यक्ष अधिवक्ता अशोक कुमार वर्मा की अध्यक्षता मेें बुलाई गई। बैठक का संचालन सचिव विकास त्यागी ने किया।
उत्तर प्रदेश की प्रमुख सचिव के पत्र में अधिवक्ताओं के विरूद्घ आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल कर उन्हें संगठित गिरोह बताते हुए पंजीकरण पर रोक लगाए जाने के आदेश हुए हैं। अधिवक्ताओं ने मुख्य सचिव के आदेश को उनके मौलिक अधिकारों का हनन बताया। साथ ही कहा कि यह मुख्य सचिव के अधिकार क्षेत्र से बाहर है। साथ ही पंजीकरण के काउंटरर्स की संख्या 3 कर दिए जाने पर भी अधिवक्ताओं में रोष व्याप्त है। इसके विरोध में आज तहसील बार एसोसिएशन के सैंकड़ों अधिवक्ता कार्य से विरक्त होकर हड़ताल पर बैठ गए। इस दौरान वरिष्ठ बैनामा लेखक रामानंद गोयल भी सैंकड़ों अधिवक्ताओं के साथ हड़ताल पर बैठे।