युग करवट ब्यूरो
वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वाराणसी दौरे के दूसरे दिन आज रेल इंजन कारखाना (डीरेका) में भाजपा सरकार वाले राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ विकास के मुद्दों को लेकर बैठक ली। इस बैठक को 2024 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण माना जा रहा है। करीब चार घंटे तक चली बैठक में प्रधानमंत्री ने सभी मुख्यमंत्रियों से अपने-अपने राज्यों में किए गए विकास कार्यों की रिपोर्ट ली। सूत्रों के अनुसार, बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि काशी के विकास मॉडल का अध्ययन करें और इसे अपने यहां अपनाएं। अपने राज्यों में इसका प्रचार-प्रसार भी करें। काशी और अयोध्या के धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए आगे आएं। पुराने शहरों के मूल स्वरूप को बरकरार रखते हुए जनता की सहूलियत और सुविधाओं के लिए क्या नया किया जा सकता है, इस पर अपने शासन-प्रशासन का ध्यान केंद्रीत करें। बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी शामिल हुए। बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, असम के मुख्यमंत्री हेमंता विस्वसर्मा, अरुणाचल प्रदेश प्रेमा खांडू, गोवा के मुख्यमंत्री, गुजरात के सीएम , हरियाणा के सीएम मनोहरलाल, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मणिपुर, त्रिपुरा और उत्तराखंड के मुख्यमंत्रियों समेत के साथ ही बिहार और नागालैंड के उप मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। हालांकि वाराणसी में मोदी की इस मीटिंग का एजेंडा सार्वजनिक नहीं किया गया है, लेकिन माना जा रहा है कि पांच राज्यों में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी की रणनीति पर बात हुई है। साथ ही, भाजपा सरकार वाले राज्यों में विकास योजनाओं पर चर्चा की गई। सूत्रों के अनुसार, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने विकास योजनाओं को समयबद्घ पूरा करने के निर्देश दिए। बैठक में 2024 लोकसभा चुनाव के पहले विकास योजनाओं को पूरा करने को कहा गया है। बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने कार्यकाल के दौरान किए गए विकास कार्यों का ब्यौरा पेश किया। बैठक में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक ही कार में पहुुंचे।