युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। जिले में प्रदूषण फैलाने वाली इकाईयों पर अब शिकंजा कसा जाएगा। इसके लिए विभिन्न विभाग संयुक्त रूप से ऐसी कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम देंगे। डीएम आरके सिंह ने जिला पर्यावरण समिति की बैठक करते हुए संबंधित विभागीय अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए हैं कि ऐसी सभी इकाईयों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।
विभागों द्वारा कार्रवाई किए जाने को लेकर समय से आख्या रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड ना किए जाने पर भी डीएम ने कड़ी नाराजग़ी जताई और कहा कि एक सप्ताह के अंदर प्रगति से अवगत कराया जाए वरना कार्रवाई के लिए तैयार रहें। डीएम ने पुलिस एवं परिवहन विभाग से भी अभियान चलाकर प्रदूषण फैलाने वाली इकाईयों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। प्रदूषण विभाग के अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है कि जहां-जहां भी वायु प्रदूषण अधिक हो रहा है, उसे न्यूनतम लाने की कार्रवाई की जाएगी। ई-वेस्ट प्रबंधन को भी प्रभावी कार्रवाई करने के लिए डीएम ने कहा है।
साथ ही मेडिकल वेस्ट सही तरीके से डिस्पोस ना करने वाले अस्पतालों के खिलाफ नोटिस की कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। निर्माण संबंधी सभी परियोजनाओं को विभाग द्वारा यूपीईसीपी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराकर सेल्फ ऑडिट संबंधित रिपोर्ट भी डीएम ने तलब की है। साथ ही उन्होंने क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण गाजियाबाद को सूचनाओं के लिए एक प्रारूप गूगल शीट पर तैयार कर सभी विभागों को एक सप्ताह में सूचना प्रेषित किए जाने के निर्देश दिए हैं, सूचना ना देने वालों को नोटिस दिए जाने की कार्रवाई की जाएगी। समीर ऐप पर प्राप्त शिकायतों का निस्तारण समयबद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण सभी संबंधित विभागों द्वारा किए जाने के लिए भी निर्देशित किया गया। बैठक में सीडीओ अस्मिता लाल, डीएफओ दीक्षा भंडारी व पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण क्षेत्रीय अधिकारी उत्सव शर्मा आदि मौजूद रहे।