युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। अपनी मांगों को लेकर पिछले कई दिनों से हड़ताल कर रहे १०२,१०८ और एएलएस एंबुलेंस चालकों ने अब अपनी हड़ताल जिला स्तर पर करने के बजाए लखनऊ स्तर पर शुरू कर दी है। प्रदर्शन में शामिल सभी एंबुलेंस को उनकी चिन्हित लोकेशन पर भेज दिया गया है लेकिन सिर्फ ११ एंबुलेंस का ही संचालन शुरू किया गया है। एंबुलेंस चालक नई कंपनी के साथ हुए टेंडर, नौकरी से ना निकाले जाने और वेतन कटौती ना किए जाने की मांग को लेकर पिछले कई दिनों से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चल रहे थे। यह हड़ताल पूरे प्रदेश में जारी थी। लगातार इस मामले को लेकर शासन-प्रशासन सख्ती बरत रहा था बावजूद इसके एंबुलेंस वाहन चालक अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। प्रदर्शन में शामिल ३८ एंबलुेंस में से महज १२ को ही संचालन के लिए भेजा गया है। उनमें से भी अधिकतर एंबुलेंस रोडवेज के ड्राइवरों द्वारा चलाई जा रही हैं। इस मामले को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों व एंबुलेंस चालकों के बीच वार्ता भी हुई थी जिसमें ४० फीसदी एंबुलेंस कर्मचारियों ने सांकेतिक रूप से हड़ताल पर रहने की सहमति बनाई थी। इस वार्ता के बाद ११ एंबुलेंस को पूर्ण रूप से संचालित कर दिया गया है। जिला एंबुलेंस संघ के जिलाध्यक्ष बृजमोहन ने बताया कि बाकी की एंबुलेंस भी अपनी चिन्हित लोकेशन पर मौजूद हैं लेकिन उनका संचालन तभी किया जाएगा, जब उनकी मांगें मान ली जाएंगी। संघ ने कहा कि अब जिला स्तर के बजाए लखनऊ में प्रदर्शन किया जाएगा जिसके लिए आज से विभिन्न जिलों से एंबुलेंस चालक लखनऊ रवाना हो रहे हैं। आपातकाल में एंबुलेंस का संचालन किया जाएगा ताकि किसी मरीज की जान ना जा सके।