नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। इन दिनों गर्मी की चपेट में आकर लगातार मौते हो रही हैं। अस्पतालों में बेहोशी की हालात में मरीजों को लाया जा रहा है जो अस्पताल पहुंचते-पहुंचते दम तोड रहे हैं। मरने वालों में कई ऐसे भी हैं जिनकी पहचान तक नहीं हो पा रही है। इसके चलते इन शवों का पहचान और मरने की सटीक वजह जानने के लिए पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। लेकिन पोस्टमार्टम हाउस का भी हाल बेहाल है। भीषण गर्मी होने के कारण शवों को अधिक समय तक नहीं रखा जा सकता। लेकिन पोस्टमार्टम हाउस में ड्रीप फीजर खराब पडे हैं। पोस्टमार्टमर हाउस में वर्तमान में दस डीप फ्रीजर हैं जिसमें से महज चार ही संचालित हैं बाकी के फ्रीजर खराब पडे हैं। ऐसे में शवों को अधिक समय तक रखने में परेशानी हो रही है। इतना ही नहीं पिछले २४ घंटे में करीब एक दर्जन शव पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे हैं, जिन्हें रखने में स्टाफ को समस्या का सामना करना पड रहा है। उस पर कटौती होने के चलते ड्रीप फ्रीजर भी पूरी क्षमता से काम नहीं कर पा रहे हैं। संयुक्त अस्पताल के सीएमएस डॉ.विनोद चंद्र पांडेय ने बताया कि अस्पताल में सडक पर बेहोश मिले कई लोगों को भर्ती कराया गया है जिनकी मौत हो गई थी। उनकी पहचान और मौत की सही वजह जानने के लिए पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। हालांकि पोस्टमार्टम हाउस की व्यवस्था को लेकर उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ.आरके गुप्ता ने बताया कि भीषण गर्मी के कारण मौतों की संख्या बढी हैं। हालांकि पूरा प्रयास किया जा रहा है कि शवों का समय से पोस्टमार्टम कर अंतिम संस्कार कराया जाए।

शवों की संख्या बढने के कारण पोस्टमार्टम हाउस में डॉक्टर्स की एक अतिरिक्त टीम लगाई गई है। सहयोगी स्टाफ भी बढाया गया है ताकि २४ घंटे के अन्दर पोस्टमार्टम हो सके। डीप फ्रीजर को लेकर उन्होंने दावा किया कि एक दो फ्रीजर खराब हैं बाकी सभी सही काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भीषण गर्मी में लोग डिहाईड्रेशन की चपेट में अधिक आ रहे हैं, एकदम से शरीर में पानी की कमी होने से मौत तक भी हो रही हैं। ऐसे में लोग अधिक से अधिक पानी पीएं।