युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। ऑनलाइन बिल्डिंग प्लान एप्रेूवल सिस्टम यानि ओबीपीएएस को लेकर कई तरह की परेशानी आ रही हैं। इसी के चलते सिस्टम पर अपलोड हुए 1975 में से केवल 1609 नक्शे की निर्गत हो पाए है। इसको लेकर कई तरह की तकनीकी समस्याएं हंै। इन्हें दूर करने के लिए जीडीए सभागार में आज से कार्यशाला यानि ट्रेनिंग शुरू की गई है। यह कार्यशाला 28 अगस्त तक चलेगी।
कार्यशाला में पहले दिन जीडीए ने रजिस्टर्ड आर्किटेक्ट को आमंत्रित किया है। कोविड प्रॉटोकॉल को देखते हुए जीडीए ने पहले दिन केवल 13 आर्किटैक्ट को ट्रेनिंग दी गई। ताकि सॉशल डिस्टेसिंग का भी पालन हो। जीडीए में करीब डेढ़ सौ आर्किटेक्ट रजिस्र्ड है। अधिकतर नक्शे इन्हीं की ओर से अपलोड किए जाते है। इसी लिए जीडीए सबसे पहले इन्हें तकनीकी बारीकी समझा रहा है। इसके लिए नियोजन विभाग लखनऊ की एक टीम आ रही है। टीम में चार विशेषज्ञ शामिल है। इस टीम की अगुवाई एसके सिंह कर रहे है। नियोजन विभाग का कहना है कि आर्किटैक्ट के प्रशिक्षित किए जाने के बाद जीडीए ग्रुप हाउसिंग कंपनियों के अफसरों को भी कार्यशाला में आमंत्रित करेगा।