युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। २० नवंबर को इंद्रापुरी चौकी क्षेत्र में हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा की एसओजी व लोनी बॉर्डर थाने के एसएचओ सचिन कुमार की टीम ने करावलनगर निवासी सुदेश कुमार एवं उसकी पत्नी अनुपमा को आला कत्ल के साथ गिरफ्तार कर लिया। एसपी देहात डॉक्टर इरज राजा ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि २० नवंबर को इंद्रापुरी निवासी मनीष त्यागी नामक व्यक्ति ने पुलिस को सूचना दी थी कि उसके प्लॉट में एक व्यक्ति की लाश पड़ी हुई है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर मर्डर की गुत्थी सुलझाने के प्रयास शुरू कर दिए थे। उसी समय करावलनगर दिल्ली निवासी अनुपमा नामक महिला ने शव की शिनाख्त करते हुए बताया कि प्लॉट से बरामद हुई लाश उसके पति सुदेश कुमार की है। श्री राजा ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि जिस व्यक्ति की शिनाख्त उसकी पत्नी ने सुदेश कुमार के रूप में की, वह पिछले काफी समय से अपनी नाबालिग पुत्री वंशिका की हत्या के मामले में दिल्ली जेल में बंद था। कोरोना संकट के दौरान वह जेल से छूटा था। पूछताछ के दौरान सुदेश ने बताया कि बेटी की हत्या के मामले में सजा से बचने के लिये उसने पत्नी के साथ मिलकर यह योजना बनाई कि किसी की हत्या कर वह उसकी जगह खुद को मृत घोषित कर देगा और फिर उसे जेल नहीं जाना पड़ेगा। अपनी साजिश को अमलीजामा पहनाने के लिये वह १८ नवंबर को मकान की मरम्मत करवाने के नाम पर एक राजमिस्त्री और बेलदार को अपने घर लेकर आया और फिर शाम के समय उसने राजमिस्त्री को तो वहां से भेज दिया जबकि बेलदार जिसका नाम डोमन रविदार निवासी बिहार था, को शराब पिलाकर व अपने कपड़े पहनाकर मार डाला। मजदूर की हत्या करने के बाद उसने उसका चेहरा भी जला दिया जिससे सबको लगे की वह उसी की लाश है और फिर वह वहां से रुपोश हो गया।