युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। नगर निगम कर्मचारी संघ के पदाधिकारी और सदस्य दो गुटों में बंट गए। इसी विवाद के चलते संघ के पूर्व अध्यक्ष हरेंद्र नागर की कल श्रद्घांजलि सभा निगम ऑफिस के परिसर में नहीं हो सकी। विवाद इतना बढ़ा कि नगर निगम प्रशासन ने कर्मचारियों को इस कार्यक्रम को करने तक की इजाजत नहीं दी। इससे निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नैन सिंह की खूब किरकिरी हो रही है। वहीं अब निगम कर्मचारी संघ में भी दो फाड़ होने की संभावना व्यक्त की जा रही है।
कर्मचारी संघ के पूर्व अध्यक्ष हरेंद्र नागर की एक वर्ष पहले हार्ट फेल होने से मौत हो गई थी। इसके लिए नगर निगम के कर्मचारी चाहते थे कि नगर निगम के नवयुग मार्केट स्थित ऑफिस में श्रद्घांजलि सभा आयोजित की जाए। इसके लिए नागर के सहयोगी रहे निगम कर्मचारियों ने सॉशल मीडिया पर कैंपेन चलाया।
सूत्रों का दावा है कि यह बात संघ के मौजूदा अध्यक्ष नैन सिंह को पसंद नहीं आई। पहले तो उन्होंने श्रद्घांजलि सभा आयोजित कराने के लिए हामी भर ली, बाद में मना कर दिया। संघ के कई पदाधिकारियों को लगता है कि मौजूदा अध्यक्ष के कारण पूर्व अध्यक्ष की रविवार को श्रद्घांजलि सभा नगर निगम परिसर में करने के लिए निगम प्रशासन ने इजाजत नहीं दी।
इसको लेकर नगर निगम कर्मचारी संघ में दो फाड़ होने की संभावना पैदा हो गई है। एक गुट इसे कर्मचारियों केेमान सम्मान की लड़ाई मान कर चल रहा है। वहीं दूसरा गुट खुले तौर पर बेबाक तरीके से अपने फैसले ले रहा है। माना जा रहा है कि विरोधी गुट जल्दी ही संघ के मौजूदा सिस्टम के खिलाफ कर्मचारियों की आम सभा बुला सकता है।