प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग कवरट)। इंदिरापुरम थाना पुलिस की हिरासत में हुई कासगंज निवासी ऑटो चालक धर्मपाल की मौत को लेकर हुए बवाल और कई राजनैतिक दलों के नेताओं द्वारा सरकार को घेरने के लिये किये गये टï्विट के बाद सीपी अजय कुमार मिश्रा के निर्देश पर कनावनी चौकी प्रभारी अमित कुमार, आरक्षी रविंद्र के अलावा दो पुलिसकर्मियों को डीसीपी ट्रांस हिंडन डॉ. दीक्षा शर्मा ने सस्पेंड कर दिया। इसके साथ ही इंदिरापुरम थाने में इन चारों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला भी दर्ज कर लिया गया। बता दें कि कल रात मृतक धर्मपाल के परिजनों ने उसके सहयोगी ऑटो चालकों के साथ न केवल जमकर हंगामा किया था, बल्कि इंदिरापुरम थाना पुलिस पर यह आरोप भी लगाया था कि धर्मपाल की मौत पुलिस द्वारा की गई पिटाई के चलते हुई। ट्रांस हिंडन की डीसीपी डॉ. दीक्षा शर्मा, एसीपी इंदिरापुरम स्वतंत्र कुमार सिंह और एसएचओ इंदिरापुरम देवपाल सिंह पुण्डीर ने निष्पक्ष जांच करके उचित कार्रवाई करने का आश्वासन देकर हंगामा कर रहे लोगों को शांत करवाया। उसके बाद सीपी के निर्देश पर डीसीपी ट्रांस हिंडन डॉ. दीक्षा शर्मा ने कनावनी चौकी प्रभारी अमित कुमार व आरक्षी रविंद्र सहित चार पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाकर उन्हें निलंबित भी कर दिया। इस कार्रवाई के संदर्भ में डीसीपी ट्रांस हिंडन डॉ. दीक्षा शर्मा ने बताया कि कंट्रोल रूम द्वारा इंदिरापुरम थाना पुलिस को यह सूचना दी गई थी कि ऑटो चालक ने किसी साइकिल सवार को टक्कर मार दी है। इस सूचना के मिलते ही कनावनी चौकी पुलिस बताये गये स्थान पर पहुंच गई। उसके बाद पुलिस ने घायल जगन को निकट के अस्पताल में भर्ती करवाकर ऑटो को बरामद कर लिया। श्रीमती शर्मा ने बताया कि क्योंकि उक्त मामले में घायल पक्ष द्वारा कोई तहरीर नहीं दी गई थी, इसलिये आरोपित धर्मपाल को उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया और रात के समय उसकी मौत हो गई। इसके बाद ऑटो चालक के परिजनों ने इंदिरापुरम थाना पुलिस पर धर्मपाल की पिटाई करने की वजह से हुई मौत के आरोप लगाकर हंगामा करना शुरू कर दिया। जांच रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जायेगी।